Home » Aarti Collection »��������� ������������ ��������������� ��������� ������ ��������� ������������������ ������ ��� ��������� ������������������

शिव आरती हिंदी में जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा

शिव आरती हिंदी में जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा
shiv aarti in hindi jai shiv omkara har om shiv omkara

शिव आरती हिंदी
जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा|
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव अद्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…………
एकानन चतुरानन पंचांनन राजे|
हंसासंन, गरुड़ासन, वृषवाहन साजे॥ ॐ जय शिव ओंकारा…………
दो भुज चारु चतुर्भज दस भुज अति सोहें|
तीनों रूप निरखता त्रिभुवन जन मोहें॥ ॐ जय शिव ओंकारा…………
अक्षमाला, बनमाला, रुण्ड़मालाधारी|
चंदन, मृदमग सोहें, भाले शशिधारी ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…………
श्वेताम्बर,पीताम्बर, बाघाम्बर अंगें|
सनकादिक, ब्रह्मादिक, भूतादिक संगें॥ ॐ जय शिव ओंकारा…………
कर के मध्य कमड़ंल चक्र, त्रिशूल धरता|
जगकर्ता, जगभर्ता, जगससंहारकर्ता ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…………
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका|
प्रवणाक्षर मध्यें ये तीनों एका॥ ॐ जय शिव ओंकारा…………
काशी में विश्वनाथ विराजत नन्दी ब्रम्हचारी|
नित उठी भोग लगावत महिमा अति भारी ॥ ॐ जय शिव ओंकारा……
त्रिगुण शिवजी की आरती जो कोई नर गावें|
कहत शिवानंद स्वामी मनवांछित फल पावें ॥ ॐ जय शिव ओंकारा………
जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा|
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव अद्धांगी धारा॥ ॐ जय शिव ओंकारा…………

यह आरती की समाप्ति के बाद एक विनती है भगवान् भोले शिव माँ पार्वती से| उनकी प्रशंसा करके भक्त उनसे विनती करते है वे दोनों हमेशा उनके ह्रदय में निवास करे|
 
कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारं|
सदा वसन्तं ह्रदयाविन्दे भंव भवानी सहितं नमामि ॥

कर्पूरगौरं- सफ़ेद कर्पूर के समान श्वेत वर्ण वाले।
करुणावतारं- करुणा के जो अवतार हैं 
संसारसारं- समस्त जगत का जो जो सार हैं।
भजगेंद्रहारम्- सांपो का जिन्होंने हार पहन रखा है
 
सदा वसतं हृदयाविन्दे : जो सदैव ह्रदय में निवास करते हो
भवंभावनी सहितं नमामि- माँ भवानी (पार्वती) के साथ, उनको मेरा नमन है, कोटि कोटि प्रणाम है ।