Home » Blog »sins that make Lord Shiva angry

कौनसे है वो पाप जिनसे शिव हो जाते है नाराज

भगवान शिव को देवों का देव कहा जाता है जो बहुत थोड़े से भक्ति भाव और आराधना से प्रसन्न हो जाते है। शिवलिंग पर  रोज जल भी चढ़ाओ तो भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए यही काफी है। बाहर से भयंकर, रूद्र, महाकाल, जैसे  भगवान शिव अंदर से बहुत भोले हैं। इसीलिए इनको भोलेनाथ भी कहा जाता है।

किन्तु कुछ पाप ऐसे भी होते हैं जिन्हे भगवान शिव नाराज हो जाते है। हिंदू धर्म में कुछ बड़े पापों का उल्लेख किया गया है, जो विचार, भाषण या कर्म के रूप में किये जा सकते है। इसलिए शिव केवल गलत कार्य से ही नहीं बल्कि गलत विचारों से भी क्रोधित हो जाते हैं।

शास्त्रों में वर्णित पाप जिनसे शिव क्रोधित हो जाते है-

1- किसी और की दौलत की इच्छा-
कभी भी किसी दूसरे व्यक्ति के पैसे का दुरुपयोग करने की कोशिश नही करनी चाहिए। अपने किसी के कर्जदार पैसे चुकाना कभी न भूलें। किसी को दूसरे व्यक्ति के पैसे को कभी लालच की दृष्टि से नहीं देखना चाहिए। क्योंकि इससे भगवान शिव नाराज हो जाते हैं।

2- किसी और की पत्नी की इच्छा करना-
दूसरे व्यक्ति के विवाहित जीवन में विघ्न उत्पन्न करने की कोशिश करना भगवान शिव का बड़ा पाप माना जाता है। ना ही किसी स्त्री को दूसरे की पत्नी होने की इच्छा होनी चाहिए और ऐसा करने वालो के अपने ही रिश्तों में परेशानियां बढ़ने लगती है।

3- दूसरों के खिलाफ षड़यंत्र, साजिशों की योजना बनाना-
दूसरों के विनाश का लक्ष्य भी भगवान शिव को नापसंद हैं। साजिश, षड़यंत्र, करने वाले या दूसरों की खुशी को मिटाने की कोशिश करने वाले कभी भगवान शिव को प्रिय नहीं होते है। भगवान शिव उन लोगों को बहुत पसंद करते है जो बहुत भोले होते हैं।

4- गलत रास्ते पर चलने की इच्छा-
कुछ लोगों का विशेष रूप से गलत गतिविधियों की ओर झुकाव होता है ऐसे लोग समाज में अपने कार्यों से अशांति पैदा करते हैं। भगवान शिव को ऐसे कार्य करने वाले असामाजिक तत्व बिलकुल भी पसंद नहीं है।

5- महिलाओं का अपमान-
हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि स्त्री का अपमान करके जो व्यक्ति लक्ष्मी को दुखी कर देता है, जिसकी वजह कई बार लक्ष्मी माता घर से चली जाती है। यह बात भगवान शिव भी पसंद नहीं करते है। कोई भी भगवान उस घर में नहीं रहता है, जहाँ पर महिलाओं का सम्मान नहीं होता है। कुछ लोग, अज्ञानता के कारण, महिलाओं पर गन्दी और असभ्य टिप्पणी करते हैं, जो न केवल नारी शक्ति को अपमानित करते हैं, बल्कि भगवान शिव को भी निराश करते हैं।

6- दूसरों को बदनाम करना-
व्यक्ति का भोलापन, भोले बाबा को बहुत पसंद है जो खुद जितने भोले है उनके भक्त भी उतने ही भोले है। अगर कोई समाज में किसी दूसरे व्यक्ति की गरिमा और सम्मान खराब करने की कोशिश करता है, तो इससे भगवान शिव को बहुत बुरा लगता है। इंसान को बदनाम करने की कोशिश करने वालो को शिव गुनेहगार मानते है। दूसरों के खिलाफ झूठ का प्रयोग करना और अफवाहे फैलाना शिव की दृष्टि में गलत है। एक व्यक्ति की पीठ बुराई करना भी इसमें शामिल है।

7- जीवहत्या और मांस का सेवन करना-
खाने के लिए पशुओं की हत्या जैसे बुरे कर्म, हिंदुत्व के अनुसार भगवान शिव की दृष्टि में एक और पाप है। अपनी जीभ के स्वाद के लिए बेजुबान जानवरों को मारना भगवान शिव को नाराज करने का एक बड़ा कारक माना जाता है। इस प्रकार की अमानवीय हिंसक क्रियाएं भगवान शिव को पसंद नहीं है।

8- किसी प्रकार का नशा करना-
जब लोग खुद को भगवान शिव का भक्त बताकर शराब, सिगरेट, नशीली दवाओं जैसी चीजों के आदी हो जाते हैं, तो भगवान शिव को यह बिलकुल भी पसंद नहीं है। इस प्रकार से वह व्यक्ति अपने शरीर को बर्बाद कर देता है और साथ ही खुद से संबंधित लोगों के जीवन को भी कष्टमय कर देता है।

9- संपत्ति की चोरी करना-
ब्राह्मण से संपत्ति चुराना, मंदिर में चोरी करना या किसी अन्य प्रकार से भी चोरी करना भगवान शिव को क्रोधित करता है।

10- किसी के बड़ों का अनादर-
माता-पिता, गुरुओं को गाली देने से या आलोचना करने से भी भगवान शिव नाराज होते है। किसी को भी गाली नहीं देना चाहिए, इससे व्यक्ति सदाचार और लोक व्यवहार भूल जाता है।

11- शिव की नजरों में कुछ अन्य पाप-
भगवान शिव की नजरों में कुछ अन्य पापों में किसी भी प्रकार के अवैध संबंध जो भारतीयता को दूषित करते है, गौशाला, जंगल आदि जलाना है।