Home » Dieties » Shiv Ji

Shiv Ji

भगवान शिव हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक हैं। भारत में अनेक सभ्यताओं द्वारा शिव की पूजा इष्ट देव के तौर पर की जाती है। शिव जी को हिन्दू धर्म में सर्व श्रेष्ठ कहा गया है और वे देवाधि देव महादेव के नाम से भी जाने जाते है। ब्रह्मा, विष्णु और महेश की त्रिमूर्ति का तीसरा घटक महेश, भगवान् शिव को निरूपित करता है।  त्रिमूर्ति में ब्रह्मा एक निर्माता को निरूपित करते है, विष्णु भगवान् रक्षक को निरूपित करते है, वहीँ भगवान् शिव यहाँ पर सर्वशक्तिमान है और विध्वंसक का रूप माने जाते है।

क्योंकि विनाश और निर्माण क्रिया सदैव एक चक्र का भाग होती है, भगवान् शिव का सबसे पहला दायित्व  जीवन चक्र को बनाकर रखना है। ऐसा माना गया है कि, शिव अपने महाकाल रूप में विध्वंसक होते हैं और सब कुछ समाप्त करके शून्य कर देते है। लेकिन अपने शंकर रूप में, वह नव निर्माण करते हुए सबकुछ पुन: स्थापित करते है। उनका लिंग अथवा फलस प्रतीक इसी प्रजनन शक्ति को निरूपित करता है।

सभी हिंदू देवताओं में भगवान शिव सबसे अद्भुत और विचित्र माने जाते है और शिव ही सर्वेश्वर भी हैं। शिव एक मात्र ऐसे महान तपस्वी हैं जो सदैव के लिए गहरे ध्यान में रहते हैं। हिमालय में स्थित अपने निवास स्थान कैलास पर्वत पर भगवान् शिव चिंतन में लीन रहते हैं। भगवान शिव को शक्ति (हिमालय की पुत्री पार्वती) से अविभाज्य भी कहा जाता है। शक्ति के बिना शिव और शिव के बिना शक्ति का कोई अस्तित्व नहीं है, ये दोनो एक हैं - या अस्तित्व की परम स्थिति है।

ब्रह्मांड के सर्व प्रबंधक के रूप में शिव को भिन्न-भिन्न रूपों में के साथ निर्माता, विध्वंसक और संरक्षक के रूप में दिखाया गया है। वह निर्माण और ध्वंस दोनों को समाहित करते है। शिव अवरोधों से मुक्त है, शीघ्र प्रसन्न हो जाने वाले है, निर्बल और बेसहारो के रक्षक है, और नियति के नियमों को परिवर्तित करने की शक्ति - सामर्थ रखते है। इसीलिए भगवान शिव को दया और करुणा के देव के रूप में जाना जाता है। वह अपने भक्तों को उन सभी बुराईयों से बचाता है जो हमेशा हमारे आसपास होती हैं। वह अपने भक्तो को शुभाशीष, ज्ञान, शील और शांति प्रदान करते है।


आदिनाथ शिव : - सर्वप्रथम शिव ने ही धरती पर जीवन के प्रचार-प्रसार का प्रयास किया इसलिए उन्हें 'आदिदेव' भी कहा जाता है। 'आदि' का अर्थ प्रारंभ। आदिनाथ होने के कारण उनका एक नाम 'आदिश' भी है।
शिव के अस्त्र-शस्त्र : - शिव का धनुष पिनाक, चक्र भवरेंदु और सुदर्शन, अस्त्र पाशुपतास्त्र और शस्त्र त्रिशूल है। उक्त सभी का उन्होंने ही निर्माण किया था।
भगवान शिव का नाग : - शिव के गले में जो नाग लिपटा रहता है उसका नाम वासुकि है। वासुकि केL बड़े भाई का नाम शेषनाग है।
शिव की अर्द्धांगिनी : - शिव की पहली पत्नी सती ने ही अगले जन्म में पार्वती के रूप में जन्म लिया और वही उमा, उर्मि, काली कही गई हैं।
शिव के पुत्र : - शिव के प्रमुख 6 पुत्र हैं- गणेश, कार्तिकेय, सुकेश, जलंधर, अयप्पा और भूमा। सभी के जन्म की कथा रोचक है।
शिव के शिष्य : - शिव के 7 शिष्य हैं जिन्हें प्रारंभिक सप्तऋषि माना गया है। इन ऋषियों ने ही शिव के ज्ञान को संपूर्ण धरती पर प्रचारित किया जिसके चलते भिन्न-भिन्न धर्म और संस्कृतियों की उत्पत्ति हुई। शिव ने ही गुरु और शिष्य परंपरा की शुरुआत की थी। शिव के शिष्य हैं- बृहस्पति, विशालाक्ष, शुक्र, सहस्राक्ष, महेन्द्र, प्राचेतस मनु, भरद्वाज इसके अलावा 8वें गौरशिरस मुनि भी थे।
शिव के गण : -शिव के गणों में भैरव, वीरभद्र, मणिभद्र, चंदिस, नंदी, श्रृंगी, भृगिरिटी, शैल, गोकर्ण, घंटाकर्ण, जय और विजय प्रमुख हैं। इसके अलावा, पिशाच, दैत्य और नाग-नागिन, पशुओं को भी शिव का गण माना जाता है।
शिव पंचायत : - भगवान सूर्य, गणपति, देवी, रुद्र और विष्णु ये शिव पंचायत कहलाते हैं।
शिव के द्वारपाल : -नंदी, स्कंद, रिटी, वृषभ, भृंगी, गणेश, उमा-महेश्वर और महाकाल।
शिव पार्षद : -* जिस तरह जय और विजय विष्णु के पार्षद हैं उसी तरह बाण, रावण, चंड, नंदी, भृंगी आदि शिव के पार्षद हैं।
सभी धर्मों का केंद्र शिव : - शिव की वेशभूषा ऐसी है कि प्रत्येक धर्म के लोग उनमें अपने प्रतीक ढूंढ सकते हैं। मुशरिक, यजीदी, साबिईन, सुबी, इब्राहीमी धर्मों में शिव के होने की छाप स्पष्ट रूप से देखी जा सकती है। शिव के शिष्यों से एक ऐसी परंपरा की शुरुआत हुई, जो आगे चलकर शैव, सिद्ध, नाथ, दिगंबर और सूफी संप्रदाय में वि‍भक्त हो गई।
बौद्ध साहित्य के मर्मज्ञ अंतरराष्ट्रीय : - ख्यातिप्राप्त विद्वान प्रोफेसर उपासक का मानना है कि शंकर ने ही बुद्ध के रूप में जन्म लिया था। उन्होंने पालि ग्रंथों में वर्णित 27 बुद्धों का उल्लेख करते हुए बताया कि इनमें बुद्ध के 3 नाम अतिप्राचीन हैं- तणंकर, शणंकर और मेघंकर।
देवता और असुर दोनों के प्रिय शिव : - भगवान शिव को देवों के साथ असुर, दानव, राक्षस, पिशाच, गंधर्व, यक्ष आदि सभी पूजते हैं। वे रावण को भी वरदान देते हैं और राम को भी। उन्होंने भस्मासुर, शुक्राचार्य आदि कई असुरों को वरदान दिया था। शिव, सभी आदिवासी, वनवासी जाति, वर्ण, धर्म और समाज के सर्वोच्च देवता हैं।
शिव चिह्न : -वनवासी से लेकर सभी साधारण व्‍यक्ति जिस चिह्न की पूजा कर सकें, उस पत्‍थर के ढेले, बटिया को शिव का चिह्न माना जाता है। इसके अलावा रुद्राक्ष और त्रिशूल को भी शिव का चिह्न माना गया है। कुछ लोग डमरू और अर्द्ध चन्द्र को भी शिव का चिह्न मानते हैं, हालांकि ज्यादातर लोग शिवलिंग अर्थात शिव की ज्योति का पूजन करते हैं।
शिव की गुफा : - शिव ने भस्मासुर से बचने के लिए एक पहाड़ी में अपने त्रिशूल से एक गुफा बनाई और वे फिर उसी गुफा में छिप गए। वह गुफा जम्मू से 150 किलोमीटर दूर त्रिकूटा की पहाड़ियों पर है। दूसरी ओर भगवान शिव ने जहां पार्वती को अमृत ज्ञान दिया था वह गुफा 'अमरनाथ गुफा' के नाम से प्रसिद्ध है।
शिव के पैरों के निशान : -श्रीपद- श्रीलंका में रतन द्वीप पहाड़ की चोटी पर स्थित श्रीपद नामक मंदिर में शिव के पैरों के निशान हैं। ये पदचिह्न 5 फुट 7 इंच लंबे और 2 फुट 6 इंच चौड़े हैं। इस स्थान को सिवानोलीपदम कहते हैं। कुछ लोग इसे आदम पीक कहते हैं।
रुद्र पद- तमिलनाडु के नागपट्टीनम जिले के थिरुवेंगडू क्षेत्र में श्रीस्वेदारण्येश्‍वर का मंदिर में शिव के पदचिह्न हैं जिसे 'रुद्र पदम' कहा जाता है। इसके अलावा थिरुवन्नामलाई में भी एक स्थान पर शिव के पदचिह्न हैं।
तेजपुर- असम के तेजपुर में ब्रह्मपुत्र नदी के पास स्थित रुद्रपद मंदिर में शिव के दाएं पैर का निशान है।
जागेश्वर- उत्तराखंड के अल्मोड़ा से 36 किलोमीटर दूर जागेश्वर मंदिर की पहाड़ी से लगभग साढ़े 4 किलोमीटर दूर जंगल में भीम के मंदिर के पास शिव के पदचिह्न हैं। पांडवों को दर्शन देने से बचने के लिए उन्होंने अपना एक पैर यहां और दूसरा कैलाश में रखा था।
रांची- झारखंड के रांची रेलवे स्टेशन से 7 किलोमीटर की दूरी पर 'रांची हिल' पर शिवजी के पैरों के निशान हैं। इस स्थान को 'पहाड़ी बाबा मंदिर' कहा जाता है।
शिव के अवतार : - वीरभद्र, पिप्पलाद, नंदी, भैरव, महेश, अश्वत्थामा, शरभावतार, गृहपति, दुर्वासा, हनुमान, वृषभ, यतिनाथ, कृष्णदर्शन, अवधूत, भिक्षुवर्य, सुरेश्वर, किरात, सुनटनर्तक, ब्रह्मचारी, यक्ष, वैश्यानाथ, द्विजेश्वर, हंसरूप, द्विज, नतेश्वर आदि हुए हैं। वेदों में रुद्रों का जिक्र है। रुद्र 11 बताए जाते हैं- कपाली, पिंगल, भीम, विरुपाक्ष, विलोहित, शास्ता, अजपाद, आपिर्बुध्य, शंभू, चण्ड तथा भव।
शिव का विरोधाभासिक परिवार : - शिवपुत्र कार्तिकेय का वाहन मयूर है, जबकि शिव के गले में वासुकि नाग है। स्वभाव से मयूर और नाग आपस में दुश्मन हैं। इधर गणपति का वाहन चूहा है, जबकि सांप मूषकभक्षी जीव है। पार्वती का वाहन शेर है, लेकिन शिवजी का वाहन तो नंदी बैल है। इस विरोधाभास या वैचारिक भिन्नता के बावजूद परिवार में एकता है। ति‍ब्बत स्थित कैलाश पर्वत पर उनका निवास है। जहां पर शिव विराजमान हैं उस पर्वत के ठीक नीचे पाताल लोक है जो भगवान विष्णु का स्थान है। शिव के आसन ?




Blog Postings related to Shiv Ji

पुरुषो के लिए मेहंदी डिज़ाइन


भगवान शिव के नटराज रूप की कहानी क्या है


पिनाक धनुष


महामृत्युंजय मंत्र - सावधानी एवम् विधि


भगवान कृष्णा को बांसुरी किसने दी थी


भगवान् शिव के अर्धनारीश्वर रूप की महिमा


शिव मंदिर के बाहर क्यों बैठते है नंदी


क्या था भगवान् शंकर की मुंड माला का रहस्य


रहस्य शिव पार्वती द्वारा अपने विवाह में किये गए गणपति पूजन का


भगवान शिव पर बेल पत्र क्यों चढ़ाए जाते हैं


कपाल मोचन के सोम सरोवर में स्नान से मिली थी शिव को ब्रह्मा दोष से मुक्ति


त्रिदेवों की उत्पात्ति कैसे हुई


उगना महादेव


कौनसे है वो पाप जिनसे शिव हो जाते है नाराज


विश्व का सबसे बड़ा शिवलिंग- भूतेश्वर नाथ महादेव


शिवजी के अंगूठे की पूजा


भगवान शिव का वृषभ अवतार- विष्णु के पुत्रो का वध


शिवलिंग पर चढाते है झाड़ू


शिवजी के द्वादश ज्योतिर्लिंग


क्यों पसंद है शिव को भांग और धतुरा