Home » Festivals » Raksha Bandhan

Raksha Bandhan

एक भाई और एक बहन का रिश्ता अनोखा ही नहीं बहुत पवित्र भी होता है। भारत देश में यह रिश्ता और भी महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि भाई-बहन के प्यार के लिए समर्पित "रक्षा बंधन" जैसा सूंदर त्योहार यहाँ खूब उत्साह से मनाया जाता है।यह एक ऐसा हिंदू त्योहार है भाई और बहन के बीच पवित्र प्रेम के प्रतीक रूप में मनाया जाता है।

रक्षा बंधन पर्व भारतीय विक्रमी सम्वत पंचांग के अनुसार श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है, जो ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार अधिकांशतः अगस्त महीने में आता है। यही कारण है कि इस त्योहार को राखी पूर्णिमा भी कहते है। यह त्योहार दो शब्दों से बना है, जो है "रक्षा" और "बंधन।" संस्कृत शब्दावली के अनुसार, इस त्यौहार का अर्थ है "रक्षा का बंधन" जहाँ "रक्षा" का मतलब होता है सुरक्षा और "बंधन" का मतलब होता है जुड़ जाना या संकल्प।

इस दिन को भाई-बहनों के उत्सव के दिन के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इस दिन बहनें और भाई एक-दूसरे के प्रति अपना प्यार और आभार प्रकट करते हैं और एक दूसरे की ख़ुशी की कामना भी करते हैं। यह दिन मुख्य रूप से भाई-बहनों के बीच मनाया जाता है ताकि वे एक-दूसरे के लिए अपने प्यार और स्नेह को बढ़ा सकें। बहनें अपने भाई को राखी बाँधती हैं और उसकी सुरक्षा के लिए भगवान से प्रार्थना करती हैं, और भाई उसकी हर बुराई से बचाने का वचन देता है।

रक्षा बंधन के दिन सभी लोग सुबह जल्दी उठते हैं और स्नान करते हैं। वे फिर पूजा करते हैं और देवताओं की आरती करते हैं। फिर, बहनें अपने भाइयों के माथे पर रोली और चावल का तिलक लगाती हैं, उन्हें कलाई पर राखी बांधती हैं और उन्हें खाने के लिए मिठाई देती हैं। भाई अपनी बहन की हर संकट से रक्षा करने का वादा करता है। बहनों को उपहार देते हैं और दोनों एक साथ में भोजन करते हैं। इसीलिए रक्षा बंधन को प्यार और संकल्प का दिन भी कहा जाता है। आजकल, यह त्योहार न केवल भाई-बहनों के बीच में मनाया जाता है, बल्कि दोस्तों और करीबी लोगों के बीच भी मनाया जाता है, जिससे लोग सभी को अपने प्रेम और कर्तव्य के भाव का संदेश देते हैं।

रक्षा बंधन के दिन बहनों को भाई की कलाई पर राखी बांधते समय निम्नलिखित मंत्र का जाप करना चाहिए।

येन बद्धो बलि राजा दानवेन्द्रो महाबलः।
तेन त्वां प्रति बन्धनामि रक्षे माचल माचलः।

जिसका अर्थ है  - "जिस प्रकार दानवों के राजा बलि अपने संकल्प से नहीं हटे थे उसी प्रकार आप भी मेरी रक्षा के वचन से कभी भी डगमगायें नहीं।"

रक्षा बंधन से कुछ ही दिन पहले, बहनें अपने भाइयों के लिए सूंदर राखी और मिठाइयों की खरीदारी करने लगती हैं। साथ ही  कुछ अन्य चीजें भी खरीदती हैं जो कि उस दिन रस्मों के लिए आवश्यक होती हैं जैसे रोली, चवाल, पूजा थाली, नारियल आदि। दूसरी ओर, भाई भी अपनी बहनों के लिए अच्छे अच्छे उपहार खरीदते हैं।

यह त्योहार भाई-बहन के रिश्ते के शाश्वत प्रेम का प्रतीक है जिसको केवल रक्त संबंधों से ही परिभाषित नहीं किया जा सकता है। यह चचेरे भाई, बहन और भाभी, भतीजी (बुआ) और भतीजे और ऐसे ही अन्य संबंधों के बीच भी मनाया जाता है।

रक्षा बंधन का त्योहार मुख्य रूप से सुरक्षा के संकल्प और प्रार्थना के रूप में मनाया जाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के साथ ही इतिहास में कई कहानियां और कथाएं हैं, जहां पर देवताओं ने अपने प्रियजनों की सुरक्षा के लिए भी उन्हें राखी बांधी है। जिनमें से कुछ निम्नलिखित है।

इंद्र देव और शचि - यह कथा हमें बताती है कि राखी सुरक्षा का एक पवित्र धागा है और यह न केवल भाइयों को उनकी सुरक्षा के लिए बांधा जाता है, बल्कि यह है कि लोगो द्वारा अपने प्रिय जनों उनसे प्यार करते हैं। भविष्य पुराण की कथा के अनुसार, एक बार देवताओं और राक्षसों के बीच में भीषण युद्ध हुआ। जिसमें स्वर्ग के देवता इंद्र देव, वर्षा और वज्र जैसे अपने दिव्य अस्त्रों से, शक्तिशाली राक्षस राजा बली से लड़ रहे थे। युद्ध को चलते हुए काफी  लम्बा समय हो गया था और कोई निर्णायक अंत तक नहीं आया। यह देखकर इंद्र देव की पत्नी शचि, भगवान विष्णु के पास गईं जिनसे आशीर्वाद स्वरुप उन्हें एक सूती धागा प्राप्त हुआ। उस धागे को शचि ने अपने पति भगवान इंद्र देव की कलाई पर बांधा, जिसने अंततः राक्षसों को हराया गया और अमरावती को पुनः प्राप्त किया। रक्षाबंधन त्यौहार पूर्व में इन्ही पवित्र धागों के लिए जाना जाता था है जो भगवान् से प्रार्थना करके महिलाओं द्वारा युद्ध के लिए जा रहे अपने पति की कलाई पर बाँधा जाता था। तब यह रक्षा सूत्र किसी निश्चित तिथि को पर्व के रूप में भाई बहन के बजाय पत्नी द्वारा युद्ध के लिए जाते समय पति की कलाई पर बाँधा जाता था।

राजा बलि और देवी लक्ष्मी - भागवत पुराण और विष्णु पुराण के अनुसार, जब भगवान विष्णु ने राक्षस राजा बलि से तीनों लोकों को जीत लिया, तो राक्षस राजा ने विष्णु जी से कहा कि वह महल में उनके पास में रहें। प्रभु ने उसके अनुरोध को स्वीकार कर लिया और राक्षस राजा के साथ में रहने लगे। हालांकि, भगवान विष्णु की पत्नी देवी लक्ष्मी अपने पैतृक निवास वैकुंठ वापस जाना चाहती थीं। इसलिए, उसने राक्षस राजा, बलि की कलाई पर एक राखी बांधी और उसे अपना भाई बनाया। बदले में राजा बलि ने जब लक्ष्मी से कुछ मांगने के लिए कहा, तो देवी लक्ष्मी ने बलि से अपने पति श्री हरी विष्णु को वचन से मुक्त करने के लिए कहा। बलि ने लक्ष्मी जी की बात मान ली और भगवान विष्णु अपनी पत्नी देवी लक्ष्मी के साथ अपने स्थान पर वैकुण्ठ लोक लौट आए।

संतोषी मां - मान्यता है कि एक बार भगवान गणेश जी के दोनो पुत्रों शुभ और लाभ निराश हो गए कि उनकी कोई बहन नहीं है। उन्होंने अपने पिता श्री से एक बहन के लिए कहा तो देवऋषि नारद जी के आशीर्वाद से शुभ लाभ को एक बहन की प्राप्ति हुई।  भगवान श्री गणेश जी ने दिव्य ज्वालाओं के माध्यम से संतोषी मां का निर्माण किया और रक्षाबंधन के अवसर पर गणेश जी के दोनो पुत्रों को बहन मिली।

कृष्ण और द्रौपदी - रक्षाबंधन के उदहारण के तौर पर महाभारत में भी कुछ घटनाएं देखने को मिलती है, पांडवों की पत्नी द्रौपदी ने एक भगवान श्री कृष्ण को राखी बांधी थी, जबकि कुंती ने महा युद्ध से पहले पौत्र अभिमन्यु को राखी बांधी थी।

भगवान कृष्ण ने जब शिशुपाल को मारने के लिए अपनी उंगली से सुदर्शन चक्र भेजा तो उनकी उंगली में चोट लग गयी थी। तब द्रौपदी ने अपनी साड़ी से कपड़े का टुकड़ा फाड़कर श्री कृष्ण की ऊँगली पर बांधा था। भगवान श्री कृष्ण, ने तब उन्हें सभी बाधाओं से बचाने का वादा किया था।

यम और यमुना - एक अन्य कथा के अनुसार मृत्यु के देवता, यम एक समय अपनी बहन यमुना के यहाँ पर लगभग बारह वर्षों तक गए नहीं जिस कारण वह बहुत ही दुखी हो गई। फिर देवी गंगा के सुझाव से, यम अपनी बहन यमुना से मिलने के लिए गए, जिससे वह बहुत खुश होती हैं और अपने भाई यम का खूब अच्छे से आतिथ्य करती हैं। इससे यम प्रसन्न हुए उन्होंने, यमुना को कुछ भी मांग लेने के लिए कहा। यमुना ने अपने भाई को बार-बार देखने की अपनी इच्छा व्यक्त की। यह सुनकर, यम ने अपनी बहन, यमुना को अमर बना दिया ताकि वह उनको बार-बार देख सके। यह कथा "भाई दूज" नामक त्यौहार का मूल बताई जाती है जो रक्षा बंधन की तरह ही भाई-बहन के रिश्ते पर आधारित एक रक्षा पर्व है।

हिंदू धर्म में यह त्योहार मुख्य रूप से भारत के उत्तरी और पश्चिमी क्षेत्रों के साथ-साथ नेपाल, पाकिस्तान और मॉरीशस जैसे देशों में भी मनाया जाता है।
जैन धर्म में इस अवसर को पवित्र माना गया है। जहाँ पर जैन मुनि और साधुओं की सेवा की जाती है, तथा जैन मुनि श्रद्धालुओं  को पवित्र सूत्र देते हैं।
सिख धर्म में यह त्यौहार भाई-बहन के प्रेम को समर्पित है, सिखों द्वारा यह त्यौहार "राखेड़ी" या राखी के रूप में मनाया जाता है।

भारत में विभिन्न समुदायों द्वारा इस दिन कई अन्य त्यौहार भी मनाए जाते हैं जैसे कि दक्षिण में लोग राखी पूर्णिमा को अवनी अवट्टम के रूप में मनाते हैं, और उत्तर भारत के कुछ क्षेत्रों में, इस दिन को कजरी पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भारत भर में मनाए जाने वाले कुछ अनुष्ठान और त्योहार निम्नलिखित है।

अवनि अवट्टम: यह दिन प्रमुख रूप से ब्राह्मण समाज के लोगो द्वारा मनाया जाता है। इस दिन वे एक दूसरे को 'जनेऊ' नामक धागे का आदान-प्रदान करते हैं साथ ही अपने पूर्वजों से किये गए अपने पापों की क्षमा प्रार्थना करते हैं और उन्हें उनकी शिक्षाओं के लिए धन्यवाद देने के लिए उन्हें प्रसाद देते हैं।

कजरी पूर्णिमा: यह भारत के उत्तर और मध्य भाग में मनाया जाता है। इस दिन किसान अच्छी फसल और माताएँ अपने पुत्र की तरक्की की मंगल कामना के लिए देवी माँ भगवती की पूजा करते हैं।

पावित्रोपना: भगवान् शिव के भक्त पंचगव्य के मिश्रण से एक धागा बनाते हैं और इसे शिवलिंग पर चढ़ाते हैं।

नारियल पूर्णिमा: पश्चिम भारत के तटीय क्षेत्रों में, मछुआरे सागर देवता तथा वरुण देवता को नारियल अर्पित करके उनसे  अच्छे समुद्र व्यापार के लिए प्रार्थना करते हैं।

रक्षा बंधन पर शुभकामना सन्देश

रक्षा बंधन पर शुभकामना सन्देशरक्षा बंधन शुभकामना सन्देशBrother and Sister Love Message and Quotes भाई बहिन के प्यार से जुडी शायरी और मेसेज  यदि आप अपनी बहिन के लिए प्यारे प्यारे सन्देश खोज रहे है तो यहा आपको वो जरुर मिलेंगे | आप उन्हें यह message या whatspp कर सकते है |  रक्षा बंधन भाई और बहिन के प्यार का सबसे प्यारा त्यौहार है | बहिन अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती है...Read More