Home » Blog

Blog

अंग के फड़कने के संकेत कारण शुकन अपशुकन

अंग के फड़कने के संकेत कारण शुकन अपशुकनSigns of limb twitching cause bad luckअंग के फड़कने के संकेत कारण शुकन अपशुकनज्योतिष के एक ग्रन्थ समुद्र शास्त्र में शरीर के अंगों के फड़कने के संकेत का विस्तारपूर्वक वर्णन किया गया है। समुद्र शास्त्र के अनुसार इंसान का शरीर बेहद संवेदनशील होता है और उसके पास ऐसी ताकत है जो होने वाली घटना को पहले ही भांप ले। हो सकता है आपको...Read More


धन प्राप्ति से जुड़े 30 गुप्त संकेत

धन प्राप्ति से जुड़े 30 गुप्त संकेत30 secret signs related to getting moneyधन प्राप्ति से जुड़े 30 गुप्त संकेतहिंदू धर्म में संकेतों की मान्यता भी प्रचलित है। ये संकेत भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में हमें पहले से ही सूचित कर देते हैं। इन संकेतों का माध्यम सपने या रास्ते में किसी किसी पशु, पक्षी या व्यक्ति विशेष का मिलना हो सकता है | कुछ संकेत हमें धन लाभ होने के बारे ...Read More


गाय के बारे में 10 चौकाने वाली बाते

गाय के बारे में 10 चौकाने वाली बातेगौ माँ की जितनी महिमा बताई जाये उतनी कम है | आप किसी भी मंदिर में चले जाये आपको गिनती के देवी देवताओ की मूर्तियाँ दिखाई देगी पर इस संसार में गाय माँ ऐसी प्राणी है जिसमे मुख्य सभी देवी देवताओ का निवास है | अब आप ही बताये की इससे अधिक पवित्र और सनातनी प्राणी ओर कौन हो सकता है |गाय की महिमा को बताने वाली 10 मुख्य बाते...Read More


कैसे अवतरित हुए शनिदेव शिला रूप में शनि शिंगणापुर में

कैसे अवतरित हुए शनिदेव शिला रूप में शनि शिंगणापुर मेंHow did Shani Dev incarnated in the form of rock in Shani Shingnapurभगवान शनि का अवतरणशनि के प्रभावी मंदिरों में शनि शिंगणापुर अग्रणीय रूप से अपनी पहचान बना चूका है | शनि का सबसे चमत्कारी शनिधाम के रूप में प्रसिद्ध है | इस जगह शनिदेव मूर्ति रूप में नही बल्कि लगभग ६ फीट की काले पत्थर की शिला के रूप में भक्तो को दर्शन देते है और उनकी...Read More


जगत का सबसे चमत्कारी शनि मंदिर - शिंगणापुर

जगत का सबसे चमत्कारी शनि मंदिर - शिंगणापुरThe world's most miraculous Shani temple - Shingnapurशनि मंदिर शिंगणापुरभगवान शनिदेव इस कलियुग में पूजे जाने वाले देवी देवताओ में विशेष स्थान रखते है और दुनियाभर में उनके बहुत सारे भक्त है | भगवान शनि को विशेषकर शनिवार के दिन पूजा जाता है | यह दंड अधिकारी के रूप में जाने जाते है | यह जब किसी की कुंडली में लगते है तो चाहे मनुष्य हो, पशु हो...Read More


जलझूलनी एकादशी

जलझूलनी एकादशीJaljulni Ekadashiजल झुलनी एकादशी व्रतजलझूलनी एकादशी  भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की ग्यारस को आती है | इसे पद्मा एकादशी डोल ग्यारस  और परिवर्तनीय एकादशी के नाम से भी जाना जाता है | जल झुलनी एकादशीकहते है इस दिन भगवान विष्णु जी अपने शयन पर करवट बदलते है |  इसी दिन माता यशोदा ने  भगवान श्री कृष्ण के कपडे  धोये थे |  इस दिन जो भक्त पूर्ण...Read More


देव उठनी एकादशी

देव उठनी एकादशीDev Uthani Ekadashiयह मुख्य एकादशी देव उठनी और देवो उत्थान ग्यारस के नाम से भी जाती है |  साल में आने वाली 24 एकादशियो में इसका विशेष महत्व है | यह दिवाली के बाद ११वे आती है |देव उठनी एकादशीइसे पापमुक्ति एकादशी के नाम से जाना जाता है | इसमे व्रत करने वाले भक्त को राजसूर्य यघ के समान फल की प्राप्ति होती है |क्यों कहते है इसे देव उठनी एकादशी :इसे...Read More


कपूर और लौंग का यह उपाय कर देगा आर्थिक संकट दूर

कपूर और लौंग का यह उपाय कर देगा आर्थिक संकट दूरहिन्दू धर्म में लौंग और कपूर पूजा में काम में लिए जाते है | कपूर जहा आरती में मुख्य अवयव माना जाता है वही लौंग अपने चमत्कारी गुणों के कारण देवी देवताओ की  प्रिय है | लौंग एक महा शक्तिशाली औषधि भी है जो मनुष्य के बहुत सारे उपचारों में सहायक है | loung kapur ka totka वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि कपूर के साथ...Read More


कैसे चढ़ाये हनुमान जी के चोला

कैसे चढ़ाये हनुमान जी के चोलाHow to offer hanuman ji's cholaहनुमान जी के चोला चढाने की विधि :हनुमान जी को  शीघ्र प्रसन्न करने का उपाय है की उन्हें मंगलवार या शनिवार को सिंदूरी चोला चढ़ाया जाये | अपने भगवान श्री राम के दीर्घायु के लिए उन्होंने यह चोला धारण किया था |इस चोले को चढाते समय कुछ बाते जरुर ध्यान रखे | शुद्ध जल और गंगा जल से स्नान :सबसे पहले हनुमानजी की...Read More


महात्मा गौतम बुद्ध से जुड़ी वे बाते जो दिलाती है सफलता

महात्मा गौतम बुद्ध से जुड़ी वे बाते जो दिलाती है सफलताThose things related to Mahatma Gautam Buddha which gives successमहात्मा गौतम बुद्ध की जीवनी से जुडी बातेक्या आप जानते है की नेपाल  में जन्मे और भारत के बिहार में दिव्य सत्य ज्ञान की प्राप्ति कर गौतम बुद्ध कैसे बन गये दुनिया के बड़े धर्मो में से एक बुद्ध धर्म के जनक | आज इस पोस्ट के माध्यम से हम भगवान बुद्ध की जीवनी के बारे में कुछ...Read More


स्कंदपुराण के अनुसार जीवन में जरुरी पांच चीजे

स्कंदपुराण के अनुसार जीवन में जरुरी पांच चीजेFive things necessary in life according to Skanda Puranaस्कंदपुराण के अनुसार जीवन में जरुरी पांच चीजेहिंदू धर्म ग्रंथों में स्कंदपुराण को महापुराण कहा जाता है। जो दुसरे पुराणों में नही आ पाया उसे स्कंदपुराण में लिखा गया है | स्कंदपुराण में धर्म ज्ञान और नीतियों से संबंधित भी  कई बातें बताई गई हैं। इस पुराण के अनुसार, ऐसी 5 चीजें...Read More


रुका और फंसा हुआ धन प्राप्ति के उपाय टोटके

रुका और फंसा हुआ धन प्राप्ति के उपाय टोटकेडूबे हुए, अटके हुए फंसे हुए धन को प्राप्त करने के टोटके और उपाय कभी कभी ऐसा भी होता है की हम किसी के बुरे वक्त में काम आते है और उसे उधार धन या सोने चांदी की रकम दे देते है पर लौटाने की बारी आती है तब कर्जदार देने का नाम नही लेता |कुछ ऐसा ही कई बार पैतृक सम्पति के मामले में भी होता है |आज हम कुछ उपाय और टोटके...Read More


क्या है मंगल यन्त्र और इसके फायदे

क्या है मंगल यन्त्र और इसके फायदेWhat is Mangal Yantra and its benefitsमंगल यन्त्र से प्राप्त होते है ये फायदेमंगल यन्त्र बहुत ही शक्तिशाली और सहायता करने वाला कवच यन्त्र है | यह आपको दुर्घटना, बीमारियों और नुकसान से बचाता है | यह आपके गुस्से और तनाव को भी नियंत्रित रखने की क्षमता रखता है | यह शादी में आ रही कठिनाइयों को भी दूर करता है | यदि किसी की गृहस्थ जीवन में...Read More


पूजन के सन्दर्भ में प्रयुक्त होने शब्द

पूजन के सन्दर्भ में प्रयुक्त होने शब्दwords used in reference to worshipपूजन में काम आने वाले शब्द : पूजन एवं साधना के सन्दर्भ में प्रयुक्त होने वाले कुछ शब्दों का अर्थ आप सभी के ज्ञानवर्धन के लिए……1. पंचोपचार - गन्ध, पुष्प, धूप, दीप तथा नैवैध्य द्वारा पूजन करने को ‘पंचोपचार’ कहते हैं|2. पंचामृत - दूध, दही, घृत , शहद तथा शक्कर इनके मिश्रण को‘पंचामृत’ कहते हैं|3. पंचगव्य - ...Read More


शिवजी के अंगूठे की पूजा

शिवजी के अंगूठे की पूजाWorship of Shiva's Thumbदुनिया का एकमात्र  मंदिर जहा होती है शिवजी के अंगूठे की पूजा : भारत विविधाताओ वाला देश है | यहा आस्था और भक्ति में भी विविधता देखी  जाती है | जहा देश भर में शिवजी को शिवलिंग के रूप में पूजा जाता है वही माउंट आबू में एक मंदिर में इनकी पूजा इनके अंगूठे की रूप में की जाती है | यह शिवजी के पैर का अंगूठा है जिसने  इस...Read More


सूतक और पातक लगना किसे कहते है ये कब लगते है

सूतक और पातक लगना किसे कहते है  ये कब लगते हैहिन्दू धर्म में हमारे ऋषि मुनियों ने जीवन में आने वाले कई पड़ाव के लिए कई धार्मिक नियम बनाये है जिससे ग्रह नक्षत्रो की गतिविधि का भी ध्यान रखा गया है | यदि इन सभी धार्मिक नियमो को हम वैज्ञानिक नजरिये से भी देखे तो यह स्वास्थ्य के हिसाब से बिल्कुल सटीक बैठते है | इन नियमो से जीवन सरल, स्वस्थ आगे बढ़ता है...Read More


अक्षय पात्र क्या होता है और शास्त्रों में इसका विवरण

अक्षय पात्र क्या होता है और शास्त्रों में इसका विवरणWhat is Akshaya Patra and its description in the scripturesअक्षय अर्थात जिसका कभी अंत ना हो, क्षय ना हो | और पात्र का अर्थ आम भाषा में बर्तन से है | महाभारत के वनपर्व में इस अक्षय पात्र के बारे में बताया गया है | यह ऐसा पात्र होता है जिसमे जब भी हाथ डालो आपको खाने और पीने के लिए मनवांछित भोजन और जल की प्राप्ति हो जाएगी | Akshya Patra ki...Read More


किस तिथि को किस देवी देवता की पूजा की जानी चाहिए

किस तिथि को किस देवी देवता की पूजा की जानी चाहिएWhich deity should be worshiped on which dateहिन्दू धर्म सबसे प्राचीन और महान धर्म है और हमारे ऋषि मुनियों ने इसमे कई नियम और ज्ञान भरी बाते बताई है | हिन्दू धर्म में 33 कोटि देवी देवता बताये गये है जिनकी विशेष पूजा के लिए विशेष तिथि और वार निर्धारित किया गया है | आइये जानते है की किस तिथि को किस देवता की पूजा की जानी चाहिए | किस...Read More


त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग नासिक

त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग नासिकत्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग नासिकत्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग मन्दिर महाराष्ट्र राज्य के नासिक जिले में हैं | यह मंदिर निकटवर्ती ब्रह्मगिरि नामक पर्वत के पास ही है, जो की दक्षिण गंगा गोदावरी नदी का उद्गम है| इस मंदिर का मुख्य रिश्ता गौतम ऋषि से और उनके द्वारा लाइ गयी गोदावरी से है | मंदिर के अन्दर योनी भाग ...Read More


ताम्बे की अंगूठी से मिलता है स्वास्थ्य लाभ

ताम्बे की अंगूठी से मिलता है स्वास्थ्य लाभHealth benefits of copper Ringताम्बे की अंगूठी पहनने के फायदेज्योतिष विज्ञान के अनुसार ताम्बे (कॉपर) की अंगूठी पहनने से व्यक्ति को अनेको लाभ प्राप्त होते है | ताम्बे का प्रयोग प्राचीनकाल से किया जा रहा है और इसके पीछे धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों कारण है | यह सस्ती पर बहुत ही फायदेमंद धातु है |आइये जाने ताम्बे की अंगूठी...Read More


ओशो से जुडी 12 रोचक बातें

ओशो से जुडी 12 रोचक बातें FACTS ABOUT OSHOओशो से जुडी 12 रोचक बातेंदुनिया के चर्चित आध्यात्मिक गुरुआें में से एक आचार्य रजनीश ‘ओशो’ का जीवन रहस्यों से भरा हुआ है। वे खुद को अमीरों का गुरु कहते थे। इन्होने अध्यात्म की अलग की अलख जगाई है |ओशो की बातों पर कई बार भारी विवाद भी मचा है। उनका जन्म भोपाल के पास रायसेन में अपने नाना के घर हुआ था। यहा आप जानेंगे आेशो...Read More


दुर्गा बीसा यन्त्र और लाभ

दुर्गा बीसा यन्त्र और लाभDurga Bisa Yantra and Benefitsमाँ दुर्गा की अपार कृपा भरी शक्तियों से पूर्ण होता है दुर्गा बीसा यन्त्र | इस यंत्र की सिद्धि के बाद आप धन, वैभव, समृधि और सुखो की प्राप्ति कर सकते है | यह रोगों को कष्टों को दूर करने वाली उर्जा रखता है | इसमे देवी माँ की रक्षा का महामंत्र ॐ दुम दुम दुम दुर्गाये नमः लिखा होता है | दुर्गा बीसा यन्त्र  कैसे...Read More


वास्तुदोष निवारण यन्त्र

वास्तुदोष निवारण यन्त्रVastudosh Niwaran Yantraवास्तु शास्त्र में दिशाओ के ज्ञान के आधार पर किसी जगह (घर, ऑफिस ) वस्तुओ को रखने की एक नियमावली है |वास्तु दोष निवारण यन्त्र को स्थापित करके पूजा करने से घर या ऑफिस में चल रहे वास्तु दोषों में कमी आती है | वास्तु दोष निवारण यन्त्र वास्तु दोष निवारण के लिए चमत्कारी यन्त्र  चीजे हमारे अनुसार होने लगती है | कभी...Read More


सूर्य नमस्कार से होने वाले फायदे

सूर्य नमस्कार से होने वाले फायदे Benefits of Surya Namaskarसूर्य नमस्कार भारत के योग विज्ञान का मुख्य आसन है जो शरीर को बलिष्ठ रखता है, स्वास्थ्य लाभ की प्राप्ति करवाता है |भगवान सूर्य की शरीर के मुख्य अंगो से शारीरिक वंदना करना भी सूर्य नमस्कार है | सूर्य नमस्कार के लाभ | यह त्रेता युग से कलियुग तक भारतीय लोगो के द्वारा श्रद्दा भाव से किया जा रहा है जिससे वे ...Read More


अमावस्या को जन्म और उपाय

अमावस्या को जन्म और उपायAmavasya birth and remediesहिन्दू ज्योतिशास्त्र के अनुसार हर महीने में एक अमावस्या आती है और उस दिन चंद्रमा आकाश में दिखाई नही देता | इस रात्रि नकारात्मक उर्जा अधिक प्रभावशाली होती है और इसी कारण अमावस्या पर जन्मे बच्चे का जन्म दोष पूर्ण होता है या गलत माना जाता है | उसकी कुंडली में सूर्य और चंद्रमा एक ही घर में होते है | अमावस्या पर...Read More


व्यवसायिक जगह दुकान के लिए वास्तु टिप्स

व्यवसायिक जगह दुकान के लिए वास्तु टिप्सVastu Tips for Business Place Shopजिन व्यक्तियों का व्यवसाय दुकान पर निर्भर करता है उनके लिए उनकी दुकान का वास्तु सम्मत होता जरुरी है | दुकान और रोजगार की जगह से जुडी हुई कुछ वास्तु टिप्स और बातो का ध्यान रखने और पालन करने से यह जगह आर्थिक रूप से भाग्यशाली साबित हो जाती है | मेहनत और किस्मत दोनों से मिलने वाला परिणाम  एक सफल ...Read More


श्रीखंड महादेव यात्रा अमरनाथ से भी है कठिन

श्रीखंड महादेव यात्रा अमरनाथ से भी है कठिनShrikhand Mahadev Yatra is more difficult than Amarnathश्रीखंड यात्रा शिव मंदिरShrikhand Mahadev Yatra in Hindiपुरे भारत देश में भगवान शिव के कई धाम है जहा वर्ष भर यात्री दर्शन हेतु जाते है | अमरनाथ, कैलाश मानसरोवर की तरह यहा की यात्रा में अति दुर्लभ है | यहा पर स्थित शिवलिंग 72 फीट ऊँचा है | यात्रा अति कठिन है इसलिए नौजवान ही दर्शन करने  आते है | शिवलिंग...Read More


क्यों नही करनी चाहिए पीपल की पूजा रविवार को

क्यों नही करनी चाहिए पीपल की पूजा रविवार कोWhy should not Peepal be worshiped on Sundayरविवार को ना करे पीपल की पूजापीपल का पेड़ सभी पेड़ो का राजा है | यह देवी देवताओ का पेड़ है जिनमे सत आत्माए और देवता वास करते है | हम्हे हर दिन बस रविवार को छोड़कर इसकी पूजा करनी चाहिए | इसे जल दूध अर्पित करना चाहिए |इसी पेड़ के द्वारा पितृ देवी देवता की पूजा भी की जाती है पर सिर्फ रविवार को इसकी...Read More


विष्णु भगवान के घोड़े का सिर

विष्णु भगवान के घोड़े का सिरhorse head of lord vishnuएक समय भगवान विष्णु वैकुण्ठ धाम में एक धनुष की  डोरी के सहारे सो गये | उन्हें अच्छे से नींद आ गयी | दूसरी तरफ स्वर्ग लोक में दानवो ने अपना आतंक फैला रखा था | स्वर्ग के देवता ब्रह्मा जी के पास अपनी परेशानियों के समाधान के लिए गये |ब्रह्मा जी ने उन्हें भगवान विष्णु की शरण में जाने की बात कही | जब देवता वैकुण्ठ धाम...Read More


मौली बांधने के पीछे के कारण

मौली बांधने के पीछे के कारणReasons behind tying Mollyमौली बांधना हिन्दू धर्म मेंहिन्दू धर्म में धार्मिक कार्यों में मौली (कलावा) क्यों बांधते हैं?मोली बांधना जिसे रक्षा सूत्र भी कहते है, हर धार्मिक कार्य या पूजा के आरम्भ में तिलक के साथ यह अनिवार्य माना जाता है | इस प्रथा का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व दोनों है | बात करे धार्मिक महत्व की तो जब भी मोली बांधी जाती...Read More


महाभारत से जुड़े कुछ अद्भुत रहस्य

महाभारत में कई घटनाएं, संबंध और ज्ञान-विज्ञान के रहस्य छिपे हुए हैं। कुरुक्षेत्र में हुए इस युद्ध ने भारत का इतिहास और भविष्य बदलकर रख दिया।महाभारत का हर पात्र जीवंत है, चाहे वह कौरव, पांडव, कर्ण और कृष्ण हो या धृष्टद्युम्न, शल्य, शिखंडी और कृपाचार्य हो।  महाभारत केवल वीर योद्धाओं की गाथाओं तक सीमित नहीं है। महाभारत से जुड़े शाप, वचन और...Read More


कुरुक्षेत्र तीर्थ की महिमा और शास्त्रों में वर्णन

 कुरुक्षेत्र तीर्थ की महिमा और शास्त्रों में वर्णनकुरुक्षेत्र को लेकर शास्त्रों में क्या बताया गया है  ?कुरुक्षेत्र तीर्थ स्थल हरियाणा राज्य की एक ऐतिहासिक जगह है | इसी स्थान पर महाभारत की सबसे बड़ी लड़ाई कौरव और पांडवो के बीच लड़ी गयी थी | इसी पावन भूमि पर भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन के माध्यम से संसार को  गीता का अद्भुत ज्ञान दिया था | kurukshetra...Read More


हनुमानजी को प्रसन्न करने वाली पूजा में चीजे

 हनुमानजी को प्रसन्न करने वाली पूजा में चीजेThings to do in worship that pleases Hanumanjiहनुमानजी को पसंद है यह चीजे, हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए पूजा में क्या क्या चढ़ाये | हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए यह चढ़ाये :१) सिंदूर : हनुमान जी को सिंदूर या चोला चढाने से यह अति शीघ्र प्रसन्न होते है | कहते है सीता माता को श्री राम जी के नाम का सिंदूर लगाते हुए हनुमानजी ने देख...Read More


रामायण के राम अरुण गोविल से जुडी रोचक बाते

रामायण के राम अरुण गोविल से जुडी रोचक बातेInteresting facts related to Ram Arun Govil of RamayanaArun Govil Biography family and carrierरामानंद सागर की रामायण और उसमे सबसे अहम रोल "श्री राम" का  निभाने वाले अरुण गोविल | राम का किरदार निभाने वाले अरुण जी के जीवन का यह सबसे बदलाव वाला दौर था | इस अदाकारी के बाद उनके जीवन में बहुत ही सुखद बदलाव आने लगे थे  | वे इस कलियुग में श्री राम के रूप में देखे जाने लगे |...Read More


क्यों पसंद है कृष्ण को मोरपंख

क्यों पसंद है कृष्ण को मोरपंखWhy Krishna likes peacock feathers क्यों कृष्णा को है मोरपंख पसंद :श्यामसुन्दर मोर पंख क्यों लगाते है…?जब भी भगवान कृष्णा का नाम आता है हम्हारे सामने उनकी या तो बाल छवि या फिर युवा छवि छा जाती है| हर छवि में उनके सिर पर शोभा बढाता मोरपंख नजर आता है| कृष्णा को यह मोरपंख इतना पसंद है की इसे हमेशा अपने श्रींगार में साथ रखते है|उनके मुकुट में...Read More


भीष्म अष्टमी का महत्व और बनाने के पीछे कारण

 भीष्म अष्टमी का महत्व और बनाने के पीछे कारणImportance Of Bhishma Ashtami/भीष्म अष्टमी (भीमाष्टमी ) का महत्व माघ माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को प्रतिवर्ष भीमाष्टमी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भीष्म पितामह ने अपने शरीर को छोडा़ था, इसीलिए यह दिन उनका निर्वाण दिवस है।  इस दिन का महत्व बहुत ज्यादा बताया गया है | मान्यता है की यदि इस दिन विधि विधान से व्रत...Read More


दफनाने के 2 महीने बाद भी मुस्कुराता रहा ‘भिक्षु’ का पार्थिव शरीर

दफनाने के 2 महीने बाद भी मुस्कुराता रहा ‘भिक्षु’ का पार्थिव शरीरEven after 2 months of burial, the body of the 'monk' kept smilingमहीनो तक मुस्कुराता रहा यह शवधर्म-आध्यात्म का मार्ग हमेशा से रहस्यमयी रहा है. कंबोडिया के पूज्य बौद्ध भिक्षु ‘ल्वांग फोर पियान’ के क्रियाकर्म के 2 महीने के बाद एक आश्चर्यजनक घटना हुई. बौद्ध परंपरा के तहत उनके पार्थिव शरीर को उस ताबूत से निकाला गया, जिसमें ...Read More


कैसे बना शिवलिंग - जाने उत्पत्ति की कथा

कैसे बना शिवलिंग - जाने उत्पत्ति की कथाHow Shivling was made - Know the story of originWhat is Shivling and Know his Storyभगवान शिव की पूजा शिवलिंग के रूप में ही क्यों की जाती है | कैसे बना शिवलिंग | किस तरह इसकी उत्पत्ति हुई | ऐसे बहुत सारे प्रश्न शिवभक्तो के दिमाग में उठते है | शिवलिंग से जुड़े रहस्यों के बारे में अनेको धार्मिक ग्रंथो में अलग अलग बाते बताई गयी है | शिवलिंग की महिमा अज्ञानी और...Read More


पीली और काली हल्दी के टोटके और उपाय

पीली और काली हल्दी के टोटके और उपायYellow and black turmeric tricks and remediesपीली और काली हल्दी के टोटके और उपायआप सबने पीली हल्दी के बारे में तो सुना ही है परन्तु काली हल्दी भी पाई जाती है। काली हल्दी का प्रयोग ज्योतिष तथा तंत्र-मंत्र में विशेष रूप से किया जाता है। यह अनेकों प्रकार के बुरे टोने-टोटकों को दूर करती हमें दुर्भाग्य से बचाती है। हल्दी के पीले रंग को...Read More


सूर्य मुद्रा योग के लाभ और विधि

सूर्य मुद्रा योग के लाभ और विधिBenefits and Method of Surya Mudra Yogaहाथो से कैसे बनाये सूर्य मुद्रा :-सबसे पहले आप किसी आसन पर बैठ जाएं।सुखासन की मुद्रा में बैठकर आप इस योग को करें।दोनों हाथों की हथेलियों को घुटनों पर रखें।अब अपने हाथ की सूर्य वाली उंगली को नीच की तरफ मोड़ें और उसे अंगूठे से दबा लें। बाकी तीनों उंगलियों को सीधा रहने दें। जैसा की आपको दिखाया गया है।इस...Read More


योगासन करते समय सावधानियां

योगासन करते समय सावधानियांPrecautions while doing yogaयोगासन में ध्यान रखने योग्य बातेAdvice And Precautions in yogaहमारे शरीर के मानसिक और शारीरिक विकास के लिए योगासन करना बेहद जरुरी है | योग करने के फायदे बहुत है और इससे बहुत सी बीमारियों को दूर किया जा सकता है | आज इस लेख में हम योगासन करते समय ध्यान रखने वाली सावधानियो के बारे में बाते करेंगे | इन सावधानियो पर आप अम्ल करे...Read More


गणेशजी ने दिया चंद्रमा को श्राप

गणेशजी ने दिया चंद्रमा को श्रापGanesha cursed the moonक्यों गणेशजी ने दिया चन्द्रमा को श्राप :धर्म ग्रंथ बताते है की गणेशजी के जन्मदिवस यानि गणेश चतुर्थी पर हम्हे चंद्रमा के दर्शन नही करने चाहिए |यदि हम ऐसा करते है तो गणेशजी कुपित हो जाते है और हम पर झूठे आरोप लग जाते है | यह सब हुआ जब चंद्रमा को अपनी सुन्दरता पर घमंड था और उसने गजमुखी गणेश जी का अपमान किया | इसी ...Read More


मार्गशीर्ष मास का धार्मिक महत्व और इसमे आने वाले पर्व त्योहार कौनसे है

मार्गशीर्ष मास का धार्मिक महत्व और इसमे आने वाले पर्व त्योहार कौनसे हैReligious importance of Margashirsha month and what are the festivals coming in itकार्तिक मास के बाद आने वाला महिना मार्गशीर्ष माह का है जो हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से नवा महिना है| अंग्रेजी कैलेंडर में यह नवम्बर दिसम्बर महीने में आता है | इस मास के अन्य नाम अगहन , मंगसर और  अग्रहायण भी है | यह महिना भगवान श्री कृष्ण के रूप का...Read More


घर की छत पर ध्वजा (झंडा ) लगाने से क्या होता है

 घर की छत पर ध्वजा (झंडा ) लगाने से क्या होता हैWhat happens when a flag is placed on the roof of the houseहर व्यक्ति चाहता है कि उसके घर का वातावरण शांत और सकारात्मक परिणाम देने वाला हो | इसके लिए वह अपनी आदतों और घर के रख रखाव में बहुत सी बाते लागू करता है | घर में पॉजिटिव एनेग्री बढती रहे इसके लिए हमारे शास्त्रों में कई बाते बताई गयी है | इसमे से आज हम बात करेंगे घर की छत पर ध्वजा...Read More


शीतला माता से जुडी मुख्य पांच बाते

शीतला माता से जुडी मुख्य पांच बातेMain five things related to Sheetla Mataकौन है शीतला माता :शीतला माता की यह पांच बाते जरुर जानेशीतला माता को चेचक रोग की देवी बताया गया है | आपने सुना भी होगा की उस व्यक्ति या बच्चे के माता निकल गयी, और शरीर पर बहुत सारी फुंसियां हो गयी | Shitala mata se judi 5 baate१) शीतला माता के चार हाथ बताये गये है जिसमे झाड़ू, कलश, नीम के पत्ते और सूप है | इन चारो का अपना...Read More


विष्णु के अवतार भगवान नरसिंह की कहानी

विष्णु के अवतार भगवान नरसिंह की कहानीStory of Lord Narasimha, an incarnation of Vishnuभगवान नरसिंह जी की महिमाNarsingh Avatar Story in Hindi नरसिंह भगवान अपने नाम के अनुसार आधे सिंह और आधे नर थे | शरीर मनुष्य का था पर चेहरा और हाथो के पंजे शेर के थे |  यह विष्णु के अवतार थे और उन्होंने यह रूप इसलिए धारण किया था की सिर्फ इसी रूप से वो हिरण्यकश्यप को मार सकते थे | क्योकि हिरण्यकश्यप दैत्य ने...Read More


ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंगOmkareshwar Jyotirlingaओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंगयह ज्योतिर्लिंग मध्यप्रदेश में पवित्र नर्मदा नदी के तट पर स्थित है। यहाँ दो पर्थक पर्थक दो शिवलिंग है जिन्हें ही ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग कहते है| यह टापू नर्मदा के दो धाराओं के विभक्त होने से बना है इस टापू को मान्धाता-पर्वत या शिवपुरी कहते हैं। दोनों टापुओ को मिलाने के लिए हवा में...Read More


शुभ और अशुभ संकेत शकुन अपशकुन की घटनाये जाने

शुभ और अशुभ संकेत शकुन अपशकुन की घटनाये जानेAuspicious and inauspicious signs foretell bad omenअशुभ संकेत अपशकुनभारतीय प्राचीन ग्रंथों में ‘वास्तु’ एवं जीव संबंधों के बारे में अनेकानेक तथ्यों से शुभाशुभ की जानकारी किसी भी स्थान पर रहने वालों को प्राप्त होती रहती है। प्रकृति को विभिन्न विकिरणों एवं संदेशों को समझने एवं ग्रहण करने की क्षमता मनुष्य से कई गुना अधिक होती...Read More


सम्पूर्ण नवग्रह यन्त्र

सम्पूर्ण नवग्रह यन्त्रSampoorna Navagraha Yantraज्योतिष शास्त्र में व्यक्ति के जीवन पर सभी नवग्रह का प्रभाव बताया गया है | व्यक्ति के जन्म के समय के साथ ही यह कुण्डली में अपनी जगह तय कर लेते है | सम्पूर्ण नवग्रह यन्त्र स्थापित होने कुंडली में दोष कम होने लगते है | सम्पूर्ण नवग्रह यन्त्र ज्योतिष शास्त्र में व्यक्ति के जीवन पर सभी नवग्रह का प्रभाव बताया गया...Read More


कालसर्प दोष निवारण यंत्र पूजा विधि

कालसर्प दोष निवारण यंत्र पूजा विधिKaal Sarp Dosh Nivaran Yantra Worship MethodKalsarp Dosh Niwaran Yantra, कालसर्प दोष निवारण यंत्रकालसर्प दोष निवारण यंत्र का प्रयोग भी इस दोष के निवारण के लिए आज बहुतायत में किया जा रहा है | इस यंत्र का प्रयोग कालसर्प दोष के दुष्प्रभाव को कम करने में और जातक को मंगल फल प्रदान करने में किया जाता है | इसके साथ कालसर्प दोष निवारण के उपाय भी आप काम में ले |...Read More


राहू केतु से मुक्ति के उपाय टोटके

राहू केतु से मुक्ति के उपाय टोटकेRemedies to get rid of Rahu Ketuराहू केतु को करे प्रसन्नयदि आपकी कुण्डली ने गलत स्थान पर बैठकर राहू केतु नुकसान पहुँचा रहे है तब आपके लिए यह पोस्ट संजीवनी बूटी जैसा काम करेगी | राहू केतु ग्रह छाया ग्रह के नाम से भी पुकारे जाते है और जिनपर इनकी छाया पड़ जाये उस व्यक्ति का समय भाग्य सब बुरा चलने लगता है | ज्योतिष शास्त्र में इन दोनों...Read More


विवाह में बाधा निवारण के उपाय

विवाह में बाधा निवारण के उपायRemedies to get rid of obstacles in marriageबहुत से ऐसे व्यक्ति होते है जिनके विवाह में देरी और कई तरह की बाधा आती है | यह ग्रहो के अशुभ प्रभाव के कारण शादी में विलम्ब आता है | इस बाधा से निपटने के लिए कुछ ज्योतिष उपाय और टोटके बताये गये है जो विवाह में आ रही बाधा को दूर करते है | यह लड़का और लड़की दोनों के साथ हो सकता है | शीघ्र विवाह होने के उपाय :-1 )...Read More


योग के मुख्य लाभ और फायदे

योग के मुख्य लाभ और फायदेMain benefits and benefits of yogaभारत की महान भूमि पर योग की महा विद्या का जन्म हुआ है | भारत सम्पूर्ण विश्व के योग गुरु देश के रूप में विख्यात है | योग का अर्थ है अपनी चित्त वृत्तियों  को शांत करके आध्यात्मिक आनंद लेना | योग द्वारा स्वस्थ शरीर और अशांत मन की प्राप्ति होती है | योग विज्ञान "योगश्च चित्तवृत्ति निरोध" अर्थात चित्त की...Read More


देवताओ की देव दिवाली

देवताओ की देव दिवालीDevtao Ki Dev Diwaliदेवताओ की दिवालीदेव दिवाली अर्थात देवताओ द्वारा दिवाली का त्यौहार मनाया जाना | शास्त्र कहते है इस दिन देवी देवता दिवाली बनाने गंगा के घाटो पर आते है दीपक जलाते है | वे अद्रश्य रूप में स्वर्ग से आकर इस त्यौहार को मनाते है |कब आती है देव दिवाली :दिवाली के पंद्रह दिन बाद कार्तिक माह  में पूर्णिमा को  यह आती है | देव...Read More


नारद के श्राप से विष्णु ने लिया राम अवतार

नारद के श्राप से विष्णु ने लिया राम अवतार By the curse of Narada, Vishnu took the incarnation of Ramaनारद मुनि श्राप - सीता राम वियोगभगवान श्री राम के अवतार के पीछे नारद मुनि का श्राप :अपनी करनी का फल सभी को भोगना पड़ता है चाहे वो मनुष्य हो या देवता | आज इस पौराणिक लेख में हम आपको यही बताएँगे की किस तरह भगवान विष्णु को राम का अवतार लेकर सीता मैया से वियोग झेलना पड़ा | यह सब नारद मुनि के...Read More


कौन है भगवान दत्तात्रेय

कौन है भगवान दत्तात्रेयWho is Lord Dattatreyaभगवान दत्तात्रेययह गुरु वंश के  प्रथम गुरु, साधना करने वाले और  योगी  थे । त्रिदेवो की शक्ति इनमे समाहित थी | शैव मत वाले इन्हे शिवजी का अवतार तो वैष्णव मत वाले इन्हे विष्णु का अवतार बताते है |अलग अलग धर्म ग्रंथो में इनकी अलग अलग पहचान बताई गयी है | इन्हे ब्रह्मा, विष्णु और महेश  के सम्मिलित अवतार के रूप में...Read More


यमुनोत्री धाम यात्रा में दर्शनीय स्थल

यमुनोत्री धाम यात्रा में दर्शनीय स्थलयमुनोत्री यात्रायमुनोत्री उत्तर के चार धामों मे से एक प्रमुख धाम है | यमुना नदी को सूर्य की पुत्री बताया गया है इसी कारण इसका ने नाम सूर्यपुत्री भी है |   पास में ही कालिंदी पर्वत जहा से यमुना झील के रूप में निकलती है | यहा पानी साफ़ और बर्फ से बना हुआ है | गंगोत्री की तरह ही यहा भी कपाट गर्मियों में खुल कर...Read More


गोमती चक्र से करे सुख समृधि में वृद्धि

गोमती चक्र से करे सुख समृधि में वृद्धिIncrease happiness and prosperity with Gomti Chakraगोमती चक्र टोटके रहते है असरदारक्या और कहाँ मिलता है गोमती चक्र :यह सस्ता चक्रनुमा सफ़ेद पत्थर होता है जो गोमती नदी में पाया जाता है | इस नदी के नाम के कारण ही इसे गोमती चक्र कहते है | माना जाता है की यह माँ लक्ष्मी का ही एक रूप है | पूजा आराधना और तांत्रिक कार्यो में इसका उपयोग किया जाता है | ...Read More


रात को नही आती नींद तो आजमाए ये वास्तु टिप्स

रात को नही आती नींद तो आजमाए ये वास्तु टिप्सIf you can't sleep at night then try these Vastu tipsआज टेक्नोलॉजी युग चल रहा है जिसमे हम मशीनों के अधीन हो गये है | शारीरिक क्षम की मात्रा कम हो गयी है और हम मशीनों के अधीन हो गये है | तनाव छिपे हुए शत्रु की तरफ हमें अपनी गिरफ्त में ले चूका है | हम बेचैन रहने लगे है और यह बेचैनी रात में भी हमारा पीछा नही छोड़ पा रही है | यही कारण है की हम अच्छे...Read More


कैसे हुआ दैत्य और राक्षसों का जन्म - जाने उत्पति की कथा

कैसे हुआ दैत्य और राक्षसों का जन्म - जाने उत्पति की कथा How did the birth of demons and demons - know the story of origin संसार में सकारात्मकता और नकारात्मकता हमेशा उसी तरह विद्यमान रही है जैसे प्रकाश के साथ अँधेरा | सुख के साथ दुःख | परोपकार के साथ कपट | ऐसे ही देवताओ के साथ राक्षस भी उत्पन्न हुए है | यह सब प्रभु की माया का परिणाम है जो हमें इन दोनों के पृथक गुणों अवगुणों के बारे में...Read More


कैसे हुआ वानरराज बालि और सुग्रीव का जन्म ?

कैसे हुआ वानरराज बालि और सुग्रीव का जन्म ?How were Vanraj Bali and Sugriva bornरामायण को जानने वालो को अच्छे से पता है कि सुघ्रीव और बालि भाई भाई थे और श्री राम ने बालि का वध कर सुघ्रीव को उसका राज्य किष्किन्धा फिर से दिला दिया था | बालि पुत्र अंगद ने बाद में लंका में हुए वानर असुर संग्राम में  श्री राम का भरपूर साथ दिया | रामायण देखने के बाद एक प्रश्न जरुर दर्शकगणों...Read More


वैकुण्ठ चतुर्दशी का महत्व, पौराणिक कथा और व्रत और पूजन विधि

वैकुण्ठ चतुर्दशी का महत्व, पौराणिक कथा और व्रत और पूजन विधिImportance of Vaikuntha Chaturdashi, Mythology and Fasting and Worship Methodवैकुण्ठ चतुर्दशी व्रत पूजन और जुड़ी कथाVaikunth chaturdashi story in Hindi and Importance वैकुण्ठ चतुर्दशी का महत्वकार्तिक मास की देव उठनी एकादशी पर भगवान विष्णु चार माह बाद अपने शयन से उठते है और उसके बाद अपने परम आराध्य परब्रहम शिव की उपासना में लग जाते है | अत: इस दिन की गयी भक्ति शिव...Read More


सनातन धर्म में ग से पूजी जाने वाली मुख्य चीजे

सनातन धर्म में ग से पूजी जाने वाली मुख्य चीजेMain things to be worshiped in Sanatan Dharmaसनातन धर्म में ग से पूजी जाने वाली ; सनातन धर्म में ग शब्द से शुरू होने वाले पञ्च चीजो की पूजा होती है . यह पांच चीजे है : गंगा, गौ, गीता, गोपी (नारी ) और गायत्री | गंगा हिमालय से निकल कर संपर्क में आने वाले हर व्यक्ति को पवित्र करती है, यह कोई मामूली नंदी नहीं नहीं बल्कि पावन गंगा माँ है जो...Read More


न्यू लकी रेस्टोरेंट - अहमदाबाद - कब्रों के बीच बना अनोखा रेस्टोरेंट

न्यू लकी रेस्टोरेंट - अहमदाबाद - कब्रों के बीच बना अनोखा रेस्टोरेंटNew Lucky Restaurant - Ahmedabad - Unique restaurant built between the gravesकब्रों के बीच इस रेस्टोरेंट में खाते है लोगकब्रिस्तान, श्मसान वो जगह होती है जहा मरे हुए व्यक्ति के शरीर दफनाया या जलाया जाता है | ऐसी जगहों को नकारात्मक शक्तियों वाली जगह माना जाता है | पर आज आप चौंक जायेंगे यह जानकर की भारत में एक ऐसा अनोखा...Read More


नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरातNageshwar Jyotirling Gujaratनागेश्वर ज्योतिर्लिंगनागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात में द्वारका से १७ मील की दुरी पर ही है | सोमनाथ अन्य ज्योतिर्लिंग गुजरात में ही है | नागेश्वर अर्थात नागों का ईश्वर भगवान् शिवजी है | रुद्र संहिता में इन्हे दारुकावने नागेशं से भी पुकारा गया है| अन्य ज्योतिर्लिंगो की भाति ही इनकी महिमा के बारे में...Read More


लाल किताब के अचूक टोटके और उपाय

लाल किताब के अचूक टोटके और उपायSurefire tricks and remedies of Lal Kitabसिद्ध और अचूक लाल किताब के टोटके और उपायजिन्होंने लाल किताब के प्रभावी उपाय और टोटके काम में लिए है, उनके अनुसार ये इतने शक्तिशाली है की जल्द ही अपना प्रभाव दिखाते है | ये अचूक और चमत्कारी उपाय अपना तुरंत प्रभाव दिखाकर प्रयोगकर्ता के दुःखो को दूर करके सुख की अनुभूति कराते है | हमने पिछले लेख में...Read More


तुलसी जी का पौधा और ध्यान रखने योग्य बाते

तुलसी जी का पौधा और ध्यान रखने योग्य बातेTulsi plant and things to keep in mindHow to care  Plant at Home in Hindiहमारी सनातन परम्पराओं के अनुसार हर घर में तुलसी का पौधा होना चाहिए और उसे देवी तुल्य मानकर नित्य पूजा अर्चना की जानी चाहिए | सभी पौधो में तुलसी जी के पौधे को सबसे अधिक पूजनीय माना गया है | कुछ इसे देवी तो कुछ बेटी की तरह इसका ध्यान रखते है और फिर तुलसी विवाह  भी करवाते है | घर...Read More


धन के देवता कुबेर की कहानी

धन के देवता कुबेर की कहानी Story of Kuber, the god of Moneyकैसे बने कुबेर धन के देवता :माता लक्ष्मी की पूजा धन की देवी के रुप में होती है तो धन के देवता के रुप में पूजे जाते हैं कुबेर देव. कुबेर धन के देवता कहे जाते हैं लेकिन उनके कुबेर बनने की कहानी शायद हर कोई नहीं जानता है. धन के देवता कुबेर तो आइए जानते हैं कि कुबेर देव असल में कौन थे और किसकी कृपा दृष्टि से वो...Read More


गंगा में अस्थि विसर्जन

गंगा में अस्थि विसर्जनBone immersion in the Gangesगंगा में अस्थि विसर्जनहिन्दू सनातन धर्म में माँ गंगा नदी की महिमा को कौन नही जानता | यह देव नदी हरि के चरणों से निकली हुई है और अब भगवान शिव की जटाओ में बसी हुई है | कई सालो की घोर तपस्या करके भागीरथ ने इसे धरती पर बुलवाया और सागर के पुत्रो को मोक्ष दिलवाया | तब से यह मान्यता हो गयी की इसमे स्नान करने से मनुष्य के...Read More


भालू होते है देवी की आरती में शामिल

भालू होते है देवी की आरती में शामिलBears are involved in the aarti of Goddessचंडी देवी मंदिर में भालू आते है आरती मेंहमने पहले के लेखो में भी बताया की भारत के मंदिरों में इंसानों के अलावा जीव जंतु भी ईश्वर के प्रति अपनी भक्ति दिखाते है | कही शिवलिंग की पूजा करने नाग देवता कई सालो से आ रहे है तो कही शाकाहारी मगरमच्छ मंदिर की रक्षा कर रहा है | आज हम जिस मंदिर की बात करने...Read More


क्यों रखी जाती है शिखा चोटी

क्यों रखी जाती है शिखा चोटीWhy is Shikha Peak kept?शिखा का सिर पर रखनाशिखा (चोटी) रखने के पीछे के कारण :प्राचीन काल में लोग सिर पर शिखा रखते थे, आज भी कई ब्राह्मण गुरु इसी तरह सिर पर शिखा रखकर इस परंपरा का पालन कर रहे है | यह आर्यों की पहचान और परम्परा का घोतक है | इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी है जो इसका शत प्रतिशत पक्षधर है | अब जाने क्यों रखते है शिखा :जहा शिखा रखी...Read More


शुक्र दोष हो तो करे ये उपाय , दूर होगा जल्दी ही दोष

शुक्र दोष हो तो करे ये उपाय, दूर होगा जल्दी ही दोषयदि व्यक्ति की कुंडली में शुक्र ग्रह कमजोर है तो आपकी उन्नति में बहुत सी रुकवाते आने लगती है | शुक्र दोष के कारण आर्थिक संकट भी पीछा नही छोड़ते है | व्यक्ति के सम्बन्ध नही समाज और परिवार में खराब होने लगते है | इन सभी के लिए कुछ ऐसे चमत्कारी उपाय बताये गये जो आपके शुक्र दोष को काफी हद तक कम कर सकते है |...Read More


मिट्टी से बनी ये चार चीजे जरुर रखे घर पर , वास्तु में मानी गयी है अत्यंत शुभ

मिट्टी से बनी ये चार चीजे जरुर रखे घर पर, वास्तु में मानी गयी है अत्यंत शुभवास्तु जीवन को सुखद बनाने के कई मार्ग बताता है | भारत में घर के रख रखाव और जीवन शेली में वास्तु नियमो का अच्छे से ध्यान रखा जाता है | वास्तु के सही ज्ञान और पालन करने से जीवन में उन्नति के मार्ग खुल जाते है | वास्तु नियमो से सकारात्मक उर्जा में बढ़ोतरी होती है और इसका प्रभाव...Read More


शिवलिंग पर चढाते है झाड़ू

शिवलिंग पर चढाते है झाड़ूOffering broom on Shivlingइस शिवलिंग पर झाड़ू चढ़ाई जाती हैएक ऐसा शिवलिंग जहा भक्त चढाते है झाड़ू और यह झाड़ू कर देती है उनके त्वचा के रोगों को खत्म |कहाँ है यह शिवलिंग :मुरादाबाद और आगरा  राजमार्ग पर  गाँव सदत्बदी में भोलेनाथ का एक प्राचीन मंदिर जो पातालेश्वर मंदिर के नाम से प्रसिद्द है | यहा पर स्थित है एक दिव्य शिवलिंग जिसपे झाड़ू चढाने...Read More


भद्रा क्या होती है और क्यों इसे अशुभ माना जाता है

भद्रा क्या होती है और क्यों इसे अशुभ माना जाता हैWhat is Bhadra and why is it considered inauspiciousसनातन धर्म में सकारात्मकता और नकारात्मकता के आधार शुभ अशुभ समय का वर्गीकरण किया गया है | जैसे पूर्णिमा के दिन को सबसे अच्छी तिथि मानी गयी है उसी के विपरीत अमावस्या को उसके विपरीत माना जाता है | कुछ दिन जिन्हें हम अबूझ मुहूर्त के नाम से जानते है बहुत ही पावन होते है | जबकि पंचक और...Read More


पीले रंग का क्या है महत्व

पीले रंग का क्या है महत्वwhat is the significance of yellowअक्सर लोग शुभ कार्यों में पीले रंग के वस्त्र धारण करते हैं | ज्योतिष में भी पीले रंग को खास महत्व दिया गया है. पीले रंग का संबंध गुरु बृहस्पति से भी माना गया है. यह सूर्य के चमकदार हिस्से वाला रंग है. यह मुख्य रंगों का हिस्सा है और यह रंग स्वभाव से गर्म और ऊर्जा पैदा करने वाला होता है. आइए जानते हैं पीले रंग का...Read More


गोपाष्टमी पर्व - गाय और गोविंद की पूजा का दिवस

गोपाष्टमी पर्व - गाय और गोविंद की पूजा का दिवसGopashtami Festival - Day of Worship of Cow and Govindगोपाष्टमी पर्व का महत्व और जुड़ी बातेGopashtami Festival भगवान श्री कृष्ण को गोपाल, गोविन्द आदि नामो से जाना जाता है | वे बचपन में ब्रज भूमि और गोवर्धन पर्वत पर गौ माताओं को चराया करते थे | कार्तिक मास की शुक्ल अष्टमी को आने वाला पर्व गोपाष्टमी गोविन्द और गौ पूजा का दिन माना जाता है...Read More


सनातन धर्म में 84 लाख योनियां

सनातन धर्म में 84 लाख योनियां84 lakh yonis in Sanatan Dharma84 Laakh Yoni ka Sach 84 लाख योनियां :हिन्दू धर्म में धर्मग्रंथो की मान्यता के अनुसार जीवात्मा 84 लाख योनियों में भटकने के बाद मनुष्य जन्म पाती है। 84 लाख योनियां निम्नानुसार मानी गई हैं। यह मनुष्य जीवन अनमोल है जिसमे भक्ति विवेक से मनुष्य इन योनियों के बंधन से छुटकारा पा कर मोक्ष प्राप्त कर सकता है| मनुष्य को अपने इस...Read More


कृष्णा ने पीया राधे के चरणों से चरणामृत

कृष्णा ने पीया राधे के चरणों से चरणामृतKrishna drinks charanamrit from Radhe's feetकृष्णा ने पिया राधे का चरणामृत :चरणामृत की महत्ता और शक्ति का इस पौराणिक कथा से भी ज्ञान होता है की जब खुद भगवान को अपने परम भक्त का चरणामृत लेना पड़ा था | एक बार गोकुल में बाल कृष्णा बीमार पड़ गये थे | कोई हाकिम वैद दवाई जड़ी - बूटी उन्हें ठीक नही कर पा रही थी | जब गोपियाँ उनसे मिलने आई और उनकी ऐसी ...Read More


पढाई, कला और संगीत के क्षेत्र में सफलता दिलाएंगे माँ सरस्वती के ये 11 नाम

पढाई, कला और संगीत के क्षेत्र में सफलता दिलाएंगे माँ सरस्वती के ये 11 नामSuccess Mantra of Goddess Saraswati in The Field of Study, Art and Music: हम सभी जानते है कि अच्छे करियर से जीवन खिल जाता है | यह  करियर पढाई, कला, संगीत आदि किसी भी क्षेत्र में आप बना सकते है | इसके लिए दो चीजे बहुत जरुरी है | एक तो आपकी लगन और दूसरी आपकी किस्मत | यदि हम लगन और मेहनत तो बहुत अच्छी करे और साथ ही कला की देवी माँ...Read More


तीर्थ यात्रा में ध्यान रखे यह बाते

तीर्थ यात्रा में ध्यान रखे यह बातेKeep these things in mind during pilgrimageतीर्थ यात्रा में ना भूले : तीर्थ दर्शन की परंपरा काफी पुराने समय से चली आ रही है। मान्यता है कि तीर्थ यात्रा से जाने-अनजाने में किए गए पापों से मुक्ति मिल जाती है। इस यात्रा से व्यक्ति को अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। शास्त्र कहते है की आयु के एक पड़ाव पर तीर्थ यात्रा करना सही रहता है, यह आयु...Read More


किन्नरों को क्या दान करे, क्या दान नही करे

किन्नरों को क्या दान करे, क्या दान नही करेWhat to donate to eunuchs, what not to donateआप यह अच्छे से जानते है की किन्नर हमारे घर या रोजगार की जगह किसी शुभ दिन या ख़ुशी के पलो में ही आते है | मान्यता है की इनका आशीर्वाद मिलना अत्यंत सुखदाई होता है | कभी भी किसी किन्नर का दिल नही दुखाना चाहिए | वे जब किसी शुभ कार्य में जैसे शादी या किसी बच्चे के जन्म पर आये तो उनका पूर्ण सम्मान...Read More


चातुर्मास में ग्रहणीय तथा वर्जिनिय नियम

 चातुर्मास में ग्रहणीय तथा वर्जिनिय नियमAdoptable and virgin rules in Chaturmas || आषाढ || श्रावण || भाद्रपद || कार्तिक ||ll साग ll, ll दही ll, ll दुध ll ll उडद llखाद्य मे सेवन न करें |1- ब्रह्म मुहूर्त में उठना |2- ब्रह्म मुहूर्त में स्नान |3- प्रतिशौच स्नान करना |4- दिन मे एक समय भोजन |5- भूमि पर शयन करना |6- समस्त एकादशी व्रत का कठोरता से पालन करना |7- मांसाहार न करना |8- तामसिक वस्तुओं जैसे.. प्याज...Read More


पीपल में है शनि देव का वास

पीपल में है शनि देव का वासShani Dev's abode in Peepalपीपल में शनि देव का वास है - इससे जुडी कथाहमारे सनातन धर्म में सभी पेड़ पौधो में पीपल की पूजा का अत्यंत महत्व है | धर्म शास्त्रों में बताया गया है की इस पेड़ में त्रिदेव के साथ लक्ष्मी जी शनि और बालाजी महाराज का भी वास है | सभी 33 कोटि देवी देवता इसमे निवास करते है | शनिवार के दिन भगवान शनिदेव संध्या के समय इस वृक्ष में...Read More


अधिक मास की कथा

अधिक मास की कथा Kaths of AdhiKmass अधिक मास माहात्म्य का पाठ करने से भी पुण्यों की प्राप्ति होती है|इस माह में व्रत, दान, जप करने का दिव्य फल प्राप्त होता है|अधिक मास के दौरान जो व्यक्ति गेहूं, चावल, मूंग, जौ, मटर, तिल, ककड़ी, केला, आम, घी, सौंठ, इमली, सेंधा नमक, आंवले का भोजन करता है उसको जीवन में शारीरिक कष्टों का सामना नहीं करना पड़ता है|इन स्वास्थ्यवर्धक...Read More


इन वस्तुओं का कभी नही करे दान

इन वस्तुओं का कभी नही करे दानNever donate these thingsनही करे इन वस्तुओ का दानशास्त्रानुसार इन वस्तुओं का दान कभी मत करें, बर्बाद हो सकते हैं आपहिन्दू धर्म शास्त्रों में दान करना ईश्वर को प्रसन्न करने के तुल्य बताया गया है | हर व्यक्ति को अपनी आमदनी का एक भाग दान करना चाहिए | दान एक त्याग है जो भविष्य की खुशियों का ताला खोलता है | दान करने से व्यक्ति के जाने...Read More


दीपावली पर अचूक उपाय और टोटके

दीपावली पर अचूक उपाय और टोटकेSurefire remedies and tricks on Diwaliदीपावली पर अचूक उपाय और टोटकेदीपावली भारत के सबसे बड़े त्यौहार के रूप में बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है | यह पर्व विष्णु के अवतार श्री राम और लक्ष्मी से जुड़ा हुआ है | समुन्द्र मंथन की पौराणिक कथा में बताया गया है की दिवाली के दिन ही माँ लक्ष्मी प्रकट हुई थी | दीपावली टोटके उपाय:-(A) दीपावली के दिन से हर सुबह...Read More


पीपल के टोटके और उपाय

पीपल के टोटके और उपायPeepal tricks and remedies Pipal Ke Totke Or Upay In Hindi पीपल को वृक्षों का राजा कहा जाता है | इस पेड़ पर सभी देवी देवताओ के साथ पितरो का भी वास बताया गया है | यदि हम कुछ चमत्कारी टोटके और उपाय पीपल के पेड़ के साथ करे तो जरुर सफलता मिलेगी | इसकी पूजा करने से आपको सभी सुख की प्राप्ति होती है |पीपल के टोटके और उपाय :- वैज्ञानिक द्रष्टि से भी यह पीपल महानयह संभवतः ...Read More


हिन्दू धर्म में पाँच पवित्र चीजे

हिन्दू धर्म में पाँच पवित्र चीजे Five sacred things in Hinduismपाँच चीजे तो पवित्र और पूजनीय है :पचामृत : पंचामृत में गाय का कच्चा दूध, शहद, शक्कर, दही और घी (घृत) का मिश्रण होता है | यह पंचामृत देवी देवताओ को नहलाने के लिए काम में लिया जाता है | पूजा में  प्रसाद के रूप में इसका  विशिष्ट स्थान है | पाँच पवित्र नदिया : हमारे धर्मग्रंथो में पांच सबसे पवित्र नदिया...Read More


भगवान सूर्य की आरती

भगवान सूर्य की आरतीAarti of Lord Suryaभगवान सूर्यदेव आरतीहिन्दू धर्म के अनुसार भगवान सूर्य देव एक मात्र ऐसे देव हैं जो साक्षात दिखाई पड़ते हैं| सूर्य देव के प्रातः दर्शन कर जल चढ़ाने से सफलता, शांति और शक्ति की प्राप्ति होती है| सूर्यदेव जी की प्रसन्न करने के लिए रोज प्रातः उनकी आरती करनी चाहिए | सूर्य देव की आरती (Surya Dev Aarti In Hindi) ऊँ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर...Read More


नासिक में देखने लायक धार्मिक दर्शनीय स्थल

नासिक में देखने लायक धार्मिक दर्शनीय स्थलReligious places to visit in nashikनासिक धार्मिक शहरनासिक शहर भारत के महाराष्ट्र राज्य में गोदावरी नदी के किनारे बसा हुआ अति प्राचीन शहर है | यह मुंबई से १८० किमी की दुरी पर है |  इस शहर का सम्बन्ध त्रेता युग के श्री राम से भी है | वनवास के समय उन्होंने माता सीता और भाई  लक्ष्मण के साथ अधिकांश समय यही व्यतीत किया था | नासिक...Read More


कैसे जन्मी माँ नर्मदा नदी

कैसे जन्मी माँ नर्मदा नदीHow mother narmada river bornनर्मदा नदी का अवतरण कथानर्मदा नदी की कहानी - शिव से जन्म   :एक बार भोलेनाथ अपनी घोर तपस्या में व्यस्त थे , उनका शरीर अति ग्रीष्म हो चूका था | इसी ग्रीष्मता से उन्हें पसीना आने लगा और उस पसीने से एक नदी प्रकट हुई | यह नदी अत्यंत प्राकृतिक सौन्दर्य की प्रतीक थी | जिसकी सुन्दरता से उमा और शिव अति प्रसन्न हुए |...Read More


कन्या कुवारी यात्रा

कन्या कुवारी यात्राKanaya Kuwaari Yaatra कन्याकुमारी तीर्थकन्या कुँवारी अर्थात जो कन्या बिना शादी के रह गयी उसकी याद में यह स्थान कहलाता है | यह कन्या पार्वती जी के लिए आया है |इस स्थान की मान्यता के अनुसार उनकी भगवान शिव से शादी नही हुई है और शादी के लिए एकत्रित किये गये अनाज बिना पकाए रह गये जो बाद में पत्थर बन गये | इन्हे यात्रिगण आज भी देख सकते है...Read More


शीतला माता का चमत्कारी घड़ा

शीतला माता का चमत्कारी घड़ाMiraculous pot of Sheetla Mataराजस्थान के पाली जिले  में शीतला माता के मंदिर में एक छोटा सा घड़ा पड़ा है | यह घड़ा  श्रद्धालुओं  के लिए आश्चर्य का केंद्र बना हुआ है | साल में २ बार इस घड़े को पानी से भरने की कोशिस की जाती है पर हर बार यह भर नही पाता | इसमे लाखो लीटर पानी डाला जाता है पर वो पानी कहाँ जाता है, आज तक पहेली बना हुआ है | लोगो की मान्यता ...Read More


शिवजी के द्वादश ज्योतिर्लिंग

शिवजी के द्वादश ज्योतिर्लिंग Shiva's 12 Jyotirlingaपुराणों के अनुसार शिवजी जहां-जहां खुद प्रगट हुए उन बारह स्थानों पर स्थित शिवलिंगों को ज्योतिर्लिंगों के रूप में पूजा जाता है। यह सभी स्वम्भू अर्थात खुद ही प्रकट हुए है और उनमे साक्षात् शिवजी का वास है | यह सभी बहूत पौराणिक है, यह कब प्रकट हुए इसका अनुमान लगाना भी संभव नही है | इनके दर्शन मात्र से शिव भक्त...Read More


गोबर और मिट्टी से बने हनुमान

गोबर और मिट्टी से बने हनुमानHanuman made of cow dung and clayगोबर से बने है हनुमान : भारत में हनुमानजी के बहुत सारे मंदिर है पर उत्तर प्रदेश के निगोहा में उतरावां गांव में बालाजी का एक ऐसा मंदिर है जिसमे प्रतिमा गाय के गोबर से बनी हुई है | यह प्रतिमा 300 साल पुरानी  है और अभी तक भी यह वेसी ही बनी हुई है जैसे यह पहले थी | माना जाता है की इस मंदिर पर बालाजी महाराज की विशेष ...Read More


भूल से भी ना लगाये यह तस्वीरे घर में

भूल से भी ना लगाये यह तस्वीरे घर मेंDo not put these pictures in the house even by mistakeतस्वीरो में वास्तुशास्त्र दोष :घर में लगी तस्वीरे भी वास्तुदोष का कारण बन सकती है जिससे घर में सुख शांति में विध्न आ सकता है | अत: सोच समझकर ही अपने घर में तस्वीरे लगाये | कभी कभी गलत तस्वीर लगाने से आप अनजाने में ही नकारात्मक शक्तियों को आमंत्रित कर लेते है और फिर उसकी हानि पुरे परिवार को...Read More


विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा बनने जा रही है अयोध्या में श्री राम की

विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा बनने जा रही है अयोध्या में श्री राम कीWorld's largest statue of Shri Ram is going to be built in Ayodhya राम जन्म भूमि अयोध्या का गौरव पुरे विश्व में फ़ैलाने के लिए योगी सरकार ने विश्व की सबसे ऊँची श्री राम की प्रतिमा बनवाने के  प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है  | उन्होंने मीडिया के सामने प्रस्तावित श्री राम चन्द्र की विशाल मूर्ति का मॉडल भी प्रस्तुत किया | अभी...Read More


पंचमुखी हनुमान रूप की महिमा

पंचमुखी हनुमान रूप की महिमाThe glory of Panchmukhi Hanuman formपंचमुखी हनुमान जी, हनुमान का पञ्चमुखी धारण करने की कथारामायण में प्रसंग के अनुसार एक बार अपनी माया से रावण के पुत्र अहिरावण  ने राम लक्ष्मण को अपहरण कर लिया | वह उन दोनों को पाताल लोक ले गया | जब संकट मोचन हनुमान को यह पता चला तो वे भी वहा पहुँच गये | पञ्चमुखी हनुमान रूप महीं और कथा : द्वार पर उनका, उनके...Read More


काल भैरव

काल भैरवKaal Bhairavकौन है काल भैरव, काल भैरव रूद्र शिव रूप : तंत्र मंत्र के महा साधको के अनुसार वेद पुराणों में जिस परम शक्तिशाली और रूद्र रूप को बताया गया है वे ‘भैरव’के नाम जाग्रत है, जिसके ताप से  भगवान सूर्य एवं अग्नि रोशन हैं| सभी अपने अपने कार्यो में में तत्पर हैं, वे सभी इन्ही ‘भैरव’के अनुशासन शीलता के कारणवश | भगवान शंकर के अवतारों में भैरव का...Read More


दरिद्रता के मुख्य कारण

 दरिद्रता के मुख्य कारणMain causes of povertyजाने गरीबी के कारण : क्या आप गरीबी से परेशान है या घर में पैसा बहूत आने के बाद भी आप अच्छे से संचय नही कर पा रहे | आमदनी तो हो रही हो पर खर्चे भी उससे ज्यादा बढ़ रहे हो | यहा निचे कुछ पॉइंट दिए जा रहे है, जाने कही इनमे से तो कोई भूल आप या परिवार का सदस्य तो नही कर रहा है | दरिद्रता के मुख्य कारण हम्हारी आदतों और...Read More


कलियुग_का_लक्ष्मण

कलियुग_का_लक्ष्मणkaliyuga_ka_laxman " भैया, परसों नये मकान पे हवन है| छुट्टी (इतवार) का दिन है| आप सभी को आना है, मैं गाड़ी भेज दूँगा|" छोटे भाई लक्ष्मण ने बड़े भाई भरत से मोबाईल पर बात करते हुए कहा|" क्या छोटे, किराये के किसी दूसरे मकान में शिफ्ट हो रहे हो ?"" नहीं भैया, ये अपना मकान है, किराये का नहीं |"" अपना मकान", भरपूर आश्चर्य के साथ भरत के मुँह से निकला|"छोटे तूने...Read More


रावण के माता पिता, भाई बहिन और परिवार

रावण के माता पिता, भाई बहिन और परिवारRavana's parents, siblings and familyकौन था रावण ? और उसका परिवारहम दशहरा (विजयादशमी ) को विजय दिवस के रूप में मनाते है |इसी दिन त्रेता में भगवान विष्णु के अवतार श्री राम ने लंकापति रावण और उसके साथ देने वाले योध्याओ का संहार किया था | ब्रह्मा जी के पुत्र मुनिवर पुलस्त्य हुए और उनका पुत्र था विश्रवाका | विश्रवाका जी की दो पत्नियां थी ...Read More


सावन मास के असरदार उपाय और टोटके

सावन मास के असरदार उपाय और टोटकेEffective remedies and tricks of Sawan monthभगवान शिव को सबसे ज्यादा यदि को महिना पसंद है तो वो है सावन | शिव भक्तो के लिए अपनी भक्ति द्वारा महादेव को प्रसन्न करने के तरह तरह उपाय किये जाते है | सावन पूजा उपाय पहले हमने बताया था की क्यों शिव को अति प्रिय है सावन का महिना | सावन के सोमवार का व्रत रखकर महादेव की कृपा के पात्र बनते है | सावन के...Read More


नवग्रह कौनसे है और उनके नाम और महिमा क्या है

नवग्रह कौनसे है और उनके नाम और महिमा क्या हैWhat are the Navagrahas and what is their name and gloryज्योतिष शास्त्र  में नवग्रह और राशियाँ मुख्य आधार है | यह सभी ग्रह भगवान शिव के रूद्र रूप से जन्मे है और हर व्यक्ति के अच्छे बुरे दिन का कारण बनते है | जीवन अच्छे से चलते चलते सब कुछ उल्टा होने लगता है तो हो सकता है की कोई ग्रह आपको दोष दे रहा है | नवग्रह महिमा कौन कौन से होते है...Read More


पीपल के 11 पत्ते की माला का अचूक हनुमान जी का टोटका

पीपल के 11 पत्ते की माला का अचूक हनुमान जी का टोटकाThe perfect trick of Hanuman ji to garland 11 leaves of peepalहनुमान और पीपल के पत्ते की मालाभागवत प्रेमियों, आप सभी को जय श्री राम | आज हम एक ऐसे चमत्कारी और अचूक टोटके के बारे में बताने जा रहे है जो अभी विफल नही होता | यदि अपने किसी सार्थक इच्छा के लिए इसे अपनाया तो यह जरुर पूर्ण होगा | यह उपाय अपार धन सम्पदा, रोग ना, शांति और समृधि की...Read More


क्यों श्री राम ने दिया लक्ष्मण को मृत्यु दंड

क्यों श्री राम ने दिया लक्ष्मण को मृत्यु दंडWhy Shri Ram gave death  punishment to Lakshmanaएक और अनसुनी कहानी कि भगवान राम ने अपने ही भाई लक्ष्मण को क्यों मारा था ?भगवान राम के तीन भाई थे उनमें से उनके एक सबसे प्रिय भ्राता लक्ष्मण जी थे |लक्ष्मण जी श्री राम भगवान को बहुत मानते थे |जब भगवान श्री राम 14 वर्ष के वनवास के लिए जा रहे थे तब लक्ष्मण ने भी उनके साथ चलने के लिए हठ ...Read More


खंडित मूर्ति की पूजा क्यों नही करे

खंडित मूर्ति की पूजा क्यों नही करेWhy not worship a broken idolक्यों नही की जाती  खंडित मूर्ति की पूजा :हिन्दू धर्म में देवी देवताओ की साकार रूप में मानकर पूजा की जाती है | इस विधि में पत्थर, सोने, चाँदी, अष्ट धातु व अन्य धातुओ की मूर्ति बनाकर या फोटो और तस्वीरों के माध्यम से पूजा की जाती है | जब कोई मूर्ति खंडित हो जाती है तो वो शोभनीय नही दिखती | यदि ऐसी खंडित...Read More


Prev 1   2   3   4   5   Next