Home » Dieties » Hanuman Ji

Hanuman Ji

भगवान हनुमान जी को हिंदू धर्म में एक शक्तिशाली देव माना जाता है। वह रामायण में उनकी चरित्र का विशेष वर्णन किया गया है। त्रेता युग में भगवान श्री राम की सेवा के लिए उन्होंने ग्यारहवें  रुद्र (भगवान शिव) अवतार के रूप में जन्म लिया था।

पृथ्वी पर श्री हनुमान जी सात चिरंजीवी लोगों में से एक हैं। जिसका तातपर्य है कि वह जो सदैव रहता है। यह चिरंजीवी देव विभिन्न माध्यमों से से प्रकट भी होते हैं। हनुमान जी अपने भक्तो में प्रकट होते हैं जब वह बहुत अधिक श्रद्धा और निष्ठावान होते हैं। जैसे अपने आदर्श रूप भगवान् श्री राम के प्रति अपनी निष्ठा प्रदर्शित करने के लिए छाती को चीरने तक के लिए भी वह तैयार रहते हैं। जब कोई भक्त श्रद्धा पूर्वक प्रभु के चरणों में एक समर्पण कर लेते हैं, तो स्वयं हनुमत स्वरुप हो जाते हैं। उन्होंने अपनी विशाल और दिव्य शारीरिक शक्ति के साथ कई कार्यों को पूर्ण किया। वह सबसे अधिक बलशाली, बुद्धिमान और ज्ञानवान है।

उसके पास अपनी इच्छानुसार किसी भी रूप को धारण करने की शक्ति थी। वह अपने शरीर का बहुत बड़े रूप में विस्तार कर सकते थे और इसको अंगूठे की लंबाई जितना कम भी कर सकते थे। अपनी अद्भुत शक्ति से उन्होंने एक छलांग में हिंद महासागर को भी पार कर दिया था। वह राक्षसों, शैतानों, भूतों और दुष्टो का नाश करने वाले है।

हनुमान जी राक्षसों में भय उत्पन्न करने वाले, चारों वेदों, शास्त्रों और धर्मग्रंथो के ज्ञाता थे। उनका जन्म चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मंगलवार के शुभ दिन सुबह 4 बजे हुआ था।

हनुमान जी (मारुति, अंजनेय) एक बहुत ही बलशाली बालक थे और एक बार वह बहुत भूखे थे और उन्हें कुछ भी खाने को नहीं मिला तो उन्होंने आकाश में एक लाल रंग की चीज देखी। यह सोचकर कि यह एक स्वादिष्ट रसदार पका हुआ फल है जिसे खाने के लिए मारुति ने सूरज तक उड़ान भरी। अपने बड़े विशाल रूप में सूर्य के निकट पहुँच गये, यह देखकर देवताओं के राजा इंद्र देव ने समझा कि संभवतः यह कोई दैत्य है तथा सूर्य के बिना दुनिया परेशानी में आ जाएगी। अतः इंद्रदेव ने वज्र नामक अपने शक्तिशाली अस्त्र से हनुमान जी पर प्रहार किया जिसके प्रभाव से उनके होठों और जबड़े की हड्डियों पर चोट लगी और वह अचेत हो गए। पिता पवन (वायु) देव इस घटना से इतने क्रोधित हो गए कि उन्होंने अपनी शक्ति से ब्रह्मांड की वायु प्रवाह को रोक दिया। दुनिया उसी समय संकट में आ गयी। इंद्र देव को अपनी गलती का आभास हुआ और मानव कल्याण के लिए पवन देव ने वायु प्रवाह सुनिश्चित किया। मारुति को शाश्वत जीवन दान दिया गया और उनको  एक नया नाम भी दिया गया, हनुमान।

हनुमान जी भगवान श्री राम की सेवा के लिए पूर्णतः समर्पित हो गए। आजीवन ब्रह्मचारी बने रहेने का उन्होंने निर्णय लिया और शादी नहीं की। आज भी अखाड़ों और जिमों में हनुमान जी की पूजा की जाती हैं। वह अपने तेज को संग्रहित करते है, उनको सभी शक्तियों को धारण करने वाला माना जाता है, अपने शरीर को भी हनुमान जी हष्ट पुष्ट रखते है। जिसका उदाहरण उनके द्वारा पर्वत माला को उठा लेने जैसा कार्य है। जब रावण से श्री राम का युद्ध चल रहा था और लक्ष्मण जी मेघनाद की अमोघ शक्ति से मूर्छित हो गए थे, तो हनुमान को मैनाक पर्वत से जड़ी-बूटी 'श्रुतसंजीवनी' लेकर आने के लिए कहा गया। श्री राम के इस कार्य के लिए हनुमान जी ने उड़ान भरी, तथा मैनाक पर्वत नामक उस पहाड़ी पर पहुंच गए किन्तु वह विशेष जड़ी बूटी नहीं खोज पाए, तो उन्होंने पूरी पर्वत माला को उठा लिया और युद्ध के मैदान में ले आये। मांसपेशियां काम करती हैं जहां खुफिया विफल रहता है। हनुमान जी को अपनी प्रतिज्ञा को पूरा करने वाला माना  जाता है।

Blog Postings related to Hanuman Ji

रामायण 108 मनका


हनुमान चालीसा में छिपे मैनेजमेंट के सूत्र


जब हनुमानजी ने राम नाम के सहारे श्री राम को भी हरा दिया


जब हनुमान की शक्ति सहन नहीं कर पाए बाली


हनुमान भक्त के कृपा से औलेंडा में नहीं पड़ते कभी ओले


हनुमान जी की अष्ट सिद्धियां


पंचमुखी हनुमान रूप की महिमा


मंगलवार के उपाय और टोटके जिनसे हनुमान जी करेंगे बेड़ापार


गोबर और मिट्टी से बने हनुमान


डॉक्टर हनुमान मंदिर दंदरौआ सरकार


हनुमानजी की पूजा में ध्यान रखे यह महिलाये


राम भक्त हनुमान को क्यों लगा भरत का बाण


अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं दनुजवनकृशानुं हनुमान जी श्लोक और अर्थ


पीपल के 11 पत्ते की माला का अचूक हनुमान जी का टोटका


हनुमानजी को प्रसन्न करने वाली पूजा में चीजे


हनुमानजी के 12 नाम पाठ


कैसे चढ़ाये हनुमान जी के चोला


कृष्ण ने हराया हनुमानजी को अर्जुन से


क्यों हुई माँ अंजना अपने पुत्र हनुमान से नाराज


राम ने किया हनुमान का गर्व खंडित